अभी-अभी

24 घंटे बाद भी गौरी लंकेश के हत्यारों का सुराग नहीं, अब SIT करेगी जांच

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1031
| सितंबर 6 , 2017 , 19:22 IST

वरिष्ठ पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की हत्या की जांच के लिए एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है। गौरी की मंगलवार रात को बेंगलुरु में उनके आवास पर गोली मारकर हत्या कर दी गई। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने बुधवार को राज्य विधानसभा में शीर्ष पुलिस अधिकारियों से मुलाकात के बाद यह जानकारी दी। उन्होंने संवाददाताओं से कहा,

पत्रकार की हत्या की जांच के लिए पुलिस महानिरीक्षक स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में एक एसआईटी का गठन किया गया है।

यह पूछे जाने पर कि क्या यह जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की किसी टीम को सौंपी जा सकती है, सिद्धारमैया ने कहा, "मैने यह पुलिस महानिदेशक (आर.के. दत्ता) पर छोड़ दिया है। वह इस मामले में राज्य के गृह मंत्री (रामलिंगा रेड्डी) से विचार विमर्श कर फैसला लेंगे।"

India-journalist-killed_a53aa8d8-92e6-11e7-b219-301a51d93d0d

कांग्रेस नेता ने कहा, "मैंने सभी विकल्प खुले रखे हैं।" उन्होंने कहा कि अगर पत्रकार के परिजन सीबीआई जांच की मांग करेंगे तो राज्य सरकार इस पर विचार कर सकती है। आपको बता दें कि गौरी लंकेश (55) की तीन अज्ञात व्यक्तियों ने उस समय गोली मारकर हत्या कर दी जब वह अपने कार्यालय से घर लौटी थीं। उन पर सात गोलियां दागी गईं थीं। दो गोलियां उनकी छाती में और एक माथे पर लगी। गौरी लोकप्रिय कन्नड़ टेबलॉयड 'लंकेश पत्रिके' की संपादक थीं।

भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने बुधवार को कर्नाटक सरकार से वरिष्ठ पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की हत्या की जांच गंभीरता से करने और दोषियों को गिरफ्तार कर उन्हें सजा देने आग्रह किया है। वरिष्ठ भाजपा नेता एवं केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने पार्टी मुख्यालय में कहा, "हम कर्नाटक सरकार से वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या की जांच गंभीरता से करने, मामले को अंजाम तक पहुंचाने, दोषियों को पकड़ने एवं उन्हें सजा देने का आग्रह करते हैं।"  

DSC_040A111

भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के खिलाफ एक रिपोर्ट प्रकाशित करने को लेकर उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया गया था। नवंबर 2016 में इस मामले में उन्हें छह माह जेल की सजा हुई थी। इससे पूर्व, पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) एम. एन. अनुचेत ने बताया था, "इस मामले की जांच के लिए गठित की गई तीन विशेष टीमें हत्यारों की तलाश में जुटी हैं। हम चेक पोस्ट और अंतर्राज्यीय सीमाओं पर लोगों और वाहनों की जांच कर रहे हैं।" अनुचेत ने कहा, "हमने पड़ोसी राज्यों आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और तमिलनाडु में भी अपने समकक्षों को सतर्क रहने को कहा है।"


कमेंट करें