नेशनल

राम मंदिर पर अब धैर्य नहीं निर्णायक आंदोलन का समय: मोहन भागवत

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1546
| नवंबर 25 , 2018 , 19:02 IST

लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर पर जिस प्रकार से विश्व हिंदू परिषद और शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे के साथ तमाम हिंदूवादी संगठनों ने अयोध्या का रुख किया है इससे साफ दिखाई देता है कि लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर के लिए हिंदू संगठन किस तरह से लामबंद है। राम मंदिर पर संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने सख्त रुख अख्तियार करते हुए कहा है कि अब धैर्य नहीं निर्णायक आंदोलन का वक्त आ गया है।

मोहन भागवत ने कहा कि साबित हो चुका है कि वहां पर राम मंदिर था। एएसआई द्वारा किए गए खुदाई के दौरान पाया गया था कि वहां पर मंदिर था जिसे ध्वस्त कर दिया गया। उन्होंने कहा कि अगर राम मंदिर नहीं बनेगा तो वहां पर किसका मंदिर बनेगा। उन्होंने आगे कहा कि भव्य राम मंदिर बनाने की जरूरत है।

न्याय में देरी अन्याय के बराबर-:

उन्होंने कहा, 'मामला कोर्ट में है, फैसला जल्द दिया जाना चाहिए। यह साबित भी हो गया है कि मंदिर वहां था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट इस केस को प्राथमिकता में नहीं रख रहा है। उन्होंने कहा कि इंसाफ में देरी अन्याय के बराबर है।' 

इससे पहले वीएचपी के अंतरराष्ट्रीय सचिव चम्पत राय ने कहा कि राम मंदिर के निर्माण के लिए हमें पूरी जमीन चाहिए और जमीन बंटवारे का कोई भी फार्मूला मंजूर नहीं होगा। चम्पत राय ने आगे कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को जमीन के मालिकाना हक का केस वापस ले लेना चाहिए और वीएचपी इस जमीन पर नामज नहीं होने देगी।

बता दें कि राम मंदिर पर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अपने फैसले में विवादित जमीन को तीन हिस्सों में बांटा था। धर्म सभा के मंच से आरएसएस के अखिल भारतीय सह सरकार्यवाह कृष्णा गोपाल ने कहा कि जो भी धर्मसभा का निर्णय होगा आरएसएस उसे मानेगी।


कमेंट करें