लाइफस्टाइल

सावधान: अगर लगता है प्यार से डर तो हो सकता है 'फिलोफोबिया', अपनाएं ये टिप्स

राजू झा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
3199
| दिसंबर 4 , 2018 , 20:06 IST

प्यार एक अद्भुत एह्सास हैं। लेकिन फिर भी बहुत से लोग प्‍यार करने से डरते हैं। कोई अगर किसी को प्‍यार करता है और उसे पा लेता है तो उसकी ये जिम्‍मेदारी बनती है वह उसके टेस्‍ट को पूरी तरह से समझे।अगर आपको भी प्यार से डर लगता है तो यह  फिलोफोबिया भी हो सकता है। 

अगर आपने ज्‍यादा प्‍यार में अपने टेस्‍ट को उसपर थोपने की कोशिश्‍ा की, तो यकीन मानिए कि आपके बीच का प्‍यार जरूर धुंधला पड़ने लगेगा। अब आपको अगर उसे पाना है तो उसे उसके टेस्‍ट और पसंद के साथ ही अपनाना होगा। लेकिन अक्सर कुछ ऐसी चीजें है जिसकी वजह से लोग प्यार से डर लगता है। आखिर क्यों होता है फिलोफोबिया...

प्‍यार एक छलावा

ऐसे लोगो का मानना है कि अक्‍सर हर किसी को दूसरे से प्‍यार हो जाता है और वह प्‍यार को लेकर बड़ी-बड़ी डींगे भी मारता है। ऐसे में यह समझना बहुत मुश्किल हैं कौन सचा हैं और कौन झूठा। आजकल के ज्‍यादातर लड़के और लड़कियां केवल इंजॉय करने के लिए एक-दूसरे से प्‍यार करते हैं। उनके लिए प्यार का मतलब साथ में घूमना-फिरना, मूवी देखना, खाना-पीना और शॉपिंग करना है।

Pyar 4

गुमराह करता है प्‍यार

बहुत से लोग प्‍यार से इसलिए डरते हैं क्‍योंकि वह किसी से इतना जुड़ जाते हैं कि उनसे दूर जाने से डर लगता है। जैसे कई लड़के और लड़कियां प्‍यार में शादी करने का वादा करते हैं। लेकिन बाद में मुकर जाते हैं।

नकार देने का डर

अपने प्‍यार का इजहार करने से पहले आपको डर सताता है सामने वाले की न का। कहीं अगर, उसने न कह दिया तो...। ऐसे में क्‍या होगा आपके इमोशंस का और उस प्‍यार का जो आपके खून के साथ पूरे शरीर में दौड़ता है। ऐसे में किसी भी रिश्‍ते में नकार देने का डर बहुत ही खतरनाक होता है।

टाइमपास

अब लड़के-लड़कियों प्‍यार को टाइमपास और रिलेशनशिप को इंजॉय करने जैसी सोच रखते हैं। आज की सोसायटी में प्यार बहुत बदल गया है। अब लोगों में वैसी भावनाएं नहीं रह गई जैसे पहले हुआ करती थी। आज हर कोई उससे प्यार करना चाहता है, जो उसके लाइफ स्टाइल से मैच करता हो।

Pyar 3

आड़े न आ जाएं पुराने अनुभव

ये बात तो बिल्‍कुल सच है कि हम जो आज होते हैं वो पूरी तरह से बीते हुए अनुभवों के आधार पर होते हैं। आप हर स्‍थिति को किसी न किसी से रिलेट कर के चलते हैं। ऐसे में कई बार आपको आपकी जिंदगी के पुराने अनुभव डराते हैं। वो आपको कई काम करने से रोकते हैं। अब यहां आपको करना ये होगा कि पुराने दिनों में अगर आपके साथ कुछ बुरा हुआ तो उसको अपने आज पर कतई हावी न होने दें और आज को आज के ही रूप में एंज्‍वॉय करें।

प्‍यार में धोखा

प्‍यार में एक बार धोखा खाने के बाद भी प्‍यार से डर लगने लगता हैं। पुरानी यादों को ताजा करते हुए कॉलेज की ए‍क विद्यार्थी दीपिका बताती हैं कि जब वह किसी के साथ रिश्‍ते में थी तो मुझे सच में लगता था कि मुझे प्यार हो गया है। मुझे लगता था कि वह रिश्ता आगे तक जाएगा, लेकिन कुछ कारणों से वह रिश्ता टूट गया। अब मुझे किसी भी रिश्ते में भावनात्मक रूप से जुड़ने में डर लगता है।

Love_3_04

नया रिश्‍ता पुराने को कर सकता है प्रभावित

ये बात तो जगजाहिर है कि आपकी जिंदगी में जब कोई नया रिश्‍ता आता है तो पुराने की अहमियत खुद ब खुद कम हो जाती है। ऐसे में अब आप अपने नए प्‍यार के लिए झूठ भी बोलने लगते हैं। कभी वो, जिसको आप अपने प्‍यार में सबसे ऊपर रखते थे, वह दूसरे नंबर पर आ जाता है। ऐसे में किसी को भी चुनने से पहले अपने बीते हुए कल की अहमियत को कभी कम न होने दें।

कमजोर बनता है प्‍यार

नए रिश्‍ता एक अज्ञात क्षेत्र की तरह होता है, और हम में से ज्‍यादातर लोगों को इस अज्ञात क्षेत्र को लेकर हमेशा आशंका होती है। अपने आपको प्‍यार में डालने का मतलब है वास्‍तविक जोखिम लेना। प्‍यार में हम दूसरे पर इतना भरोसा कर लेते हैं कि उसको खुद को प्रभावित करने की इजाजत दे देते है जिससे वह हमें प्रभावित करने लगता है, जो हमें कमजोर बना देता है।

परिवार से दूरी

कुछ लोगों को मानना है कि प्‍यार में पड़ने का मतलब, बड़े होने का संकेत हैं। और यह स्वतंत्र रूप में हमारे जीवन को शुरू करने का प्रतिनिधित्व करता हैं। लेकिन साथ ही यह विकास परिवार से बिदाई का प्रतिनिधित्व भी कर सकता हैं। इसलिए परिवार से दूरी के डर से बहुत से लोग प्‍यार से डरने लगते हैं।

Pyar 8

अक्सर असमान होता है प्‍यार

बहुत से लोग खोने के डर से भी प्‍यार करने से घबराते हैं उन्‍हें लगता हैं कि ऐसा न हो कि जिसे वह सबसे ज्‍यादा पसंद करते हैं, अपने प्‍यार को इजहार कर उसे खो दें। सच तो यह है कि प्‍यार अक्‍सर असंतुलित होता है, व्‍यक्ति को पल में कम या ज्‍यादा लग सकता है। अपनी भावनाओं के लिए हम दूसरे को बदलने पर मजबूर नहीं कर सकते हैं।

असली खुशी के साथ वास्तविक दर्द

हम में से बहुत से लोग चीजों से इसलिए दूर भागते हैं, क्‍योंकि जो हमें खुशी देती है, वह दर्द भी देगी। इस डर से भी कई लोग प्‍यार करने से घबराते हैं। जीवन में प्‍यार में भावनात्‍मक स्‍तर पर हम सच्‍ची खुशी को अनुभव करते हैं, लेकिन दुख को भी महसूस करने की उम्‍मीद कर सकते हैं।

Love_2_04

प्‍यार कभी अकेले नहीं आता

आपकी जिंदगी में जब भी प्‍यार आता है, तो वो कभी भी अकेले नहीं आता। वह अपने साथ हमेशा कुछ नई जिम्‍मेदारियां लेकर आता है। ऐसे में आपको ध्‍यान देना होगा कि आपकी जिंदगी में पहले से भी कुछ जिम्‍म्‍ेदारियां हैं। प्‍यार की जिम्‍मेदारियों में उलझ कर आप उनको मत भूल जाएगी। यहां आपको जरूरत पड़ेगी अपने प्‍यार और जिंदगी की अन्‍य जिम्‍मेदारियों के बिच सामंजस्‍य बैठाने की।


कमेंट करें