नेशनल

आज़ादी विशेष: इन 5 गानों को सुन हर हिंदुस्तानी का सीना चौड़ा हो जाता है!

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
2868
| अगस्त 15 , 2018 , 12:47 IST

आज पूरा देश 15 अगस्त 1947 को आजादी का जश्न मना रहा हैं। देश की आजादी की धून में देश आज झूम रहा हैं। आजादी पाने की 200 वर्ष की कसमकश और हजारों बलिदान के बाद हमारा देश एक स्वतंत्र राष्ट्र बना। हिन्दुस्तान को आजादी मिलने के बाद जो जवान शहीद हुए उनकी दास्तां को हमारे देश के गायकों ने अपनी मधुरवाणी में गाकर उसमें जान डाल दिए।

72वें स्वतंत्रता दिवस पर हम उन शहीदों को नमन करते हैं। साल 1947 में हमारे देश को आजादी मिली थी, जिसकी याद में स्वतंत्रता दिवस को पूरे देशवासी मिलकर खुशी के साथ मनाते हैं। इसके साथ ही 15 अगस्त के दिन उन देश भक्तों की कुर्बानी याद करने का दिन है जिन्होंने आजादी की चाहत में अपनी जान दे दी और आज हम आजाद देश के आजाद नागरिक हैं।

स्वतंत्रता दिवस देश के125 करोड़ लोगों के लिए बेहद गर्व का दिन है। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देश के प्रधानमंत्री दिल्ली के लाल किले पर झंडा फहराकर लोगों को संबोधन करते हैं।

इस दिन ब्रिटिश अंग्रेजों को देश से बाहर निकालने वाले स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है। पूरे देश में स्वतंत्रता दिवस एक पर्व की तरह मनाया जाता है। देश के स्कूलों में आजादी के इस दिन का सेलिब्रेशन किया जाता है। ऐसे में आज हम आपको बता रहे हैं स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बॉलीवुड के वो 5 देशभक्ति गाने जिन्हें सुनकर आपके रौंगटे खड़े हो जाएंगे।

1. मेरे देश की धरती सोना उगले, उगले हीरा मोती ,मेरे देश की धरती
फिल्म : उपकार (1967), गीतकार : गुलशन बावरा, संगीतकार : कल्याणजी आनंदजी, पार्श्वगायक : महेन्द्र कपूर, पर्दे पर : मनोज कुमार

2. सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा…
यह गीत सर्वाधिक प्रसिद्ध रहे मोहम्मद इक़बाल द्वारा गया गया है।
फिल्म : भाई बहन (1959), संगीतकार : दत्ता नाइक, पार्श्वगायक : आशा भोंसले
पर्दे पर : बेबी नाज़

3. ऐ मेरे वतन के लोगों...
यह अमर गीत कवि रामचंद्र द्विवेदी ने लिखा था, और भारत-चीन युद्ध में शहीद हुए भारतीय वीरों के लिए गया गया था सी रामचंद्र ने भारतकोकिला कही जाने वाली लता मंगेशकर ने वर्ष 1963 के गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली के रामलीला मैदान में इसे तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की उपस्थिति में गाया था |

4. भारत का रहने वाला हूं...
फिल्म: पूरब और पश्चिम (1970)
संगीत: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: इन्दीवर

5. दिल दिया है जान भी देंगे ए वतन तेरे लिए…
फिल्म- कर्मा (1986)
गीतकार: आनंद बख्सी


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें