नेशनल

सावन का आज दूसरा सोमवार, जानें कौन था पहला कांवड़िया और क्या है कांवड़ यात्रा के नियम

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
2736
| अगस्त 6 , 2018 , 12:36 IST

सावन का पावन महीना चल रहा है। इस पावन महीना में श्रद्धालु घर से कांवड़ यात्रा के लिए निकल पड़े है। 6 अगस्त सावन का दूसरा सोमवार है। इस सोमवार से कांवड़ यात्रियों की संख्या बढ़ेगी और शिव के जयकारों से गली-मुहल्ले गूंजने लगेंगे। ऐसे में अगर आप भी कांवड़ यात्रा पर हैं या फिर योजना बना रहे हैं या भविष्य में बमभोले को कांवड़ चढ़ाने पर विचार कर रहे हैं तो कांवड़ यात्रा के बारे में ये बातें आपको जरूर जाननी चाहिए…

कौन था पहला कांवड़िया

बताया जाता है, पहला कांवड़िया रावण था। वहीं, मान्यता है कि भगवान राम ने भी भगवान शिव को कांवड़ चढ़ाई थी। आनंद रामायण में इस बात का उल्लेख मिलता है कि भगवान राम ने कांवड़िया बनकर सुल्तानगंज से जल लिया और देवघर स्थित बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग का अभिषेक किया था।

1dsc03408hd

किसी पावन तीर्थ जैसे हरिद्वार से कंधे पर गंगाजल लेकर आने और अपने घर के नजदीक भगवान शिव के ज्योतिर्लिंगों पर चढ़ाने की परंपरा ‘कांवड़ यात्रा’ कहलाती है। सावन में भगवान महादेव की और भक्तों के बीच की दूरी कम हो जाती है। इसलिए भगवान को प्रसन्न कर मनोवांछित फल पाने के लिए कई उपायों में एक उपाय कांवड़ यात्रा भी है, इसे शिव को प्रसन्न करने का सहज मार्ग माना गया है।

कावड़ यात्रा के कई नियम

कावड़ यात्रा के कई नियम भी हैं, जिन्हें पूरा करने का हर कांवड़िया संकल्प करता है। यात्रा में नशा, मांस, मदिरा और तामसिक भोजन वर्जित है। बिना स्नान किए कावड़ को हाथ नहीं लगा सकते, चमड़े की वस्तु का स्पर्श नहीं करते, वाहन का प्रयोग, चारपाई का उपयोग, वृक्ष के नीचे भी कावड़ नहीं रखना, कावड़ को अपने सिर के ऊपर से लेकर जाना भी वर्जित माना गया है।

K

कहा जाता है कि जो भी शिवभक्त सच्चे मन से सावन में कांधे पर कांवड़ रखकर बोल बम का नारा लगाते हुए पैदल यात्रा करता है, उसे हर कदम के साथ एक अश्वमेघ यज्ञ करने जितना फल प्राप्त होता है। उसके सभी पापों का अंत हो जाता है। उसको जीवन में कभी किसी चीज की कमी नहीं रहती है। मृत्यु के बाद उसे शिवलोक की प्राप्ति होती है।

K 1

कितने तरह के होते है कांवड़ यात्रा

1. सामान्य कांवड़: जिसमें कांवड़िए स्टैंड पर कांवड़ रखकर आराम से जाते हैं।

2. डाक कांवड़: इसमें शिव के जलाभिषेक तक लगातार चलते रहना होता है।

Maxresdefault (6)

3. खड़ी कांवड़: कुछ भक्तों के साथ सहयोगी भी चलते हैं, जब वे आराम करते हैं दूसरे कांवड़ को चलने के अंदाज में हिलाते-डुलाते रहते हैं।

4. दांडी कांवड़: ये भक्त नदी तट से शिवधाम तक की यात्रा दंड देते हुए पूरी करते हैं। इसमें एक महीने तक का वक्त लग जाता है।

इन सबके साथ आप भी सावन के पावन महीना में शिव को प्रसन्न कर सकते हैं। भोले हैं दानी आपकी सर्व कामना को दूर करेेंगे।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें