नेशनल

जम्मू-कश्मीर: LoC पर घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकी को सेना ने किया ढेर

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2135
| अगस्त 19 , 2018 , 19:27 IST

जम्मू एवं कश्मीर में रविवार को भारतीय सेना ने घुसपैठियों के एक सशस्त्र समूह के घुसपैठ की कोशिश को नाकाम करते हुए एक आतंकवादी को मार गिराया। घुसपैठ की यह कोशिश पाकिस्तान में इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार के सत्ता संभालने के बाद और पाकिस्तानी सेना द्वारा नियंत्रण रेखा (एलओसी) सहित सीमा पार से हो रही किसी भी तरह के घुसपैठ को रोकने का संकल्प लिए जाने के बाद हुई है।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा, "आतंकवादी उड़ी सेक्टर के कस्तूरी नार इलाके में मारा गया।" आतंकवादी के मारे जाने के बाद घंटों तक सुरक्षा अभियान जारी रहा। यह मुठभेड़ शनिवार को नियंत्रण रेखा पर तीन आतंकवादियों के कुपवाड़ा जिले के तंगधार सेक्टर में मारे जाने के बाद हुई।

Ffffffffffffffffffffff

महत्वपूर्ण बात यह है कि दोनों देशों द्वारा स्वतंत्रता दिवस मनाए जाने के बाद गुरुवार को भारत और पाकिस्तान की सेना के वरिष्ठ कमांडरों ने बात की थी। पाकिस्तान के मेजर जनरल साहिर शमशाद मिर्जा के आदेश पर महानिदेशक सैन्य संचालन (डीजीएमओ) स्तर की वार्ता आयोजित की गई। भारतीय सेना द्वारा 16 अगस्त को एक बयान में कहा गया कि पाकिस्तानी कमांडर ने वादा किया था कि उनकी सेना "नियंत्रण रेखा के पास शत्रु तत्वों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करेगा और भारतीय पक्ष द्वारा साझा की गई जानकारी का जवाब देगा, जिससे आतंकवाद रोधी अभियान के संचालन में सुविधा होगी।"

यह आश्वासन भारतीय डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान द्वारा स्पष्ट रूप से कहने के बाद आया कि आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ का प्रयास चिंता का एक प्रमुख कारण है और पाकिस्तान (समकक्ष) को सूचित किया कि पीर पंजाल पर्वत श्रृंखलाओं के उत्तर में घुसपैठ की गतिविधियों में वृद्धि हुई है। सेना के बयान में कहा गया कि पाकिस्तान को नियंत्रण रेखा के पास स्थित लॉन्च पैड से घुसपैठ को रोकने के लिए जरूरी कदम उठाने होंगे। रविवार को सेना के एक सूत्र ने दिल्ली में आईएएनएस को बताया कि कुछ भी नहीं बदला है। भारतीय पक्ष हालांकि पाकिस्तान के साथ सीमाओं पर शांति के लिए प्रयास करना जारी रखेगा।

सूत्र ने कहा कि डीजीएमओ स्तर की वार्ता में घुसपैठ के प्रयासों का मुद्दा उठाया गया था। उसने कहा, "कल तंगधार और आज उड़ी में घुसपैठ की कोशिश हुई। वार्ता में हम घुसपैठ के मुद्दे पर जोर दे रहे हैं। यह एक मुद्दा था और आज भी बना हुआ है। हम हर दिन घुसपैठ के प्रयास को नाकाम कर रहे हैं। कुछ भी नहीं बदला है।"


कमेंट करें