राजनीति

खीर वाले बयान पर उपेंद्र कुशवाहा की सफाई, ना RJD से दूध मांगा और ना BJP से चीनी

जितेन्द्र कुमार, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1456
| अगस्त 27 , 2018 , 13:35 IST

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने सोमवार को अपने खीर वाले बयान पर सफाई दी। उन्होंने कहा- "मैंने किसी दल से जोड़कर बातें नहीं की थीं। मैंने समाज को जोड़ने को लेकर बयान दिया था। मेरी बातों की सही तरीके से व्याख्या होनी चाहिए। मैंने आरजेडी से न तो दूध मांगा है और न बीजेपी से चीनी मांगी है। मैंने किसी पार्टी का नाम नहीं लिया।

उन्होंने कहा कि मेरे बयान को किसी दल विशेष से जोड़कर क्यों देखा जाता है? हम सामाजिक न्याय की बात करते हैं। हम सभी से दोस्ती में विश्वास रखते हैं और दोस्ती का हाथ बढ़ाते हैं। रालोसपा मजबूत होगी तो एनडीए मजबूत होगा और एनडीए मजबूत होगा तो नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनेंगे।

दरअसल, कुशवाहा ने शनिवार को कहा था कि यदुवंशी (यादव समाज) का दूध और कुशवंशी (कुशवाहा समाज) का चावल अगर मिल जाए तो सबसे स्वादिष्ट खीर तैयार होगी। इस बयान के बाद यह अटकलें लगना शुरू हो गई थीं कि उपेंद्र कुशवाहा ने यदुवंशी के दूध का जिक्र कर, लालू यादव की पार्टी से हाथ मिलाने के संकेत दिए हैं।

जिसके बाद आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा- "प्रेमभाव से बनाई गई खीर में पौष्टिकता, स्वाद और ऊर्जा की भरपूर मात्रा होती है। यह एक अच्छा व्यंजन है।"

बिहार में एनडीए में मतभेद दरअसल, रालोसपा ने पिछला आम चुनाव एनडीए के साथ लड़ा था। अब जेडीयू के एनडीए में शामिल हो जाने के बाद बीजेपी, रालोसपा और एलजेपी के बीच सीटों के बंटवारे पर सहमति नहीं बन पा रही है। जेडीयू का कहना है कि राज्य में वह बड़े भाई की भूमिका है। इसलिए उसे लोकसभा चुनाव में सबसे ज्यादा 25 सीटें मिलना चाहिए। वहीं, एलजेपी 7 और रालोसपा कम से कम 4 सीटें मांग रही है। अगर ऐसा होता है तो बीजेपी को सिर्फ 4 सीटें मिलेंगी।


कमेंट करें