नेशनल

'पेरियार' की मूर्ति को नुकसान पहुंचाये जाने के बाद BJP दफ्तर पर फेंका गया पेट्रोल बम

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1723
| मार्च 7 , 2018 , 13:34 IST

त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति गिराए जाने के बाद तमिलनाडु के वेल्लोर में समाज सुधारक ईवीआर रामास्वामी 'पेरियार' की मूति को नुकसान पहुंचाया गया है। पुलिस के मुताबिक, तिरुपुर कॉर्पोरेशन ऑफिस में लगाई गई पेरियार की प्रतिमा का शीशे का कवर और नाक तोड़ दी गई है। घटना रात करीब 9 बजे की है।

पेरियार की मूर्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप में दो लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। पुलिस के मुताबिक दोनों लोग नशे की हालत में थे। मूर्ति को नुकसान पहुंचाने वालों की पहचान मुथुरमन और फ्रांसिस के तौर पर हुई है। पुलिस ने बताया कि मुथुरमन बीजेपी का कार्यकर्ता है, वहीं फ्रांसिस सीपीआई का कार्यकर्ता है।

वेल्लोर में 'पेरियार' की मूति को नुकसान पहुचाये जाने की घटना के बाद कोयंबटूर में कुछ अज्ञात लोगों ने बीजेपी ऑफिस पर पेट्रोल बम फेंका है। ये घटना कोयंबटूर के चिथापुडुर में सुबह 4 बजे हुई है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

अापको बता दें कि 'पेरियार' की मूति को नुकसान पहुचाये जाने की यह घटना भाजपा के एक सीनियर नेता के विवादित सोशल मीडिया पोस्ट के कुछ घंटे बाद हुई है। त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति गिराए जाने के बाद भाजपा के राष्ट्रीय सचिव एच राजा ने बयान दिया था कि 'त्रिपुरा में लेनिन के बाद अब तमिलनाडु में पेरियार की बारी है।

कौन थे पेरियार?

ईवीआर रामास्वामी 'पेरियार' एक समाज सुधारक थे। वे बीसवीं सदी में तमिलनाडु के एक प्रमुख राजनेता थे। पेरियार ने जस्टिस पार्टी का गठन किया था। ईवीआर रामास्वामी पेरियार रुढ़िवादी हिन्दुत्व के घोर विरोधी थे और वे पुराणों में कही गई बातों को बेतूका मानते थे। उन्होंने हिंदू वर्ण व्यवस्था का विरोध किया था। पेरियार ने हिंदी की अनिवार्य पढ़ाई का भी विरोध किया था।

 


कमेंट करें