नेशनल

फूलन देवी की हत्या के आरोपी शेर सिंह ने रचाई शादी, इस घराने की बेटी के साथ लिए फेरे

अमितेष युवराज सिंह | न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 90
45608
| फरवरी 20 , 2018 , 18:34 IST

दस्यु से समाजवादी पार्टी की सांसद बनीं फूलन देवी की हत्या के मुख्य आरोपी शेर सिंह राणा की शादी हो गई है। शेर सिंह राणा ने भरतपुर के पूर्व विधायक की बेटी प्रतिमा के साथ सात फेरे लिए। पहले ये शादी शांतिकुंज, हरिद्वार में होनी थी, लेकिन शादी का आयोजन दिल्ली स्थित एक होटल में हुआ। शेर सिंह उत्तराखंड के रूड़की का रहने वाला है और उसका पूरा परिवार अभी रुड़की में ही रहता है। शेर सिंह अभी जमानत पर जेल से बाहर है। राणा ने दावा किया कि उसने करोड़ों का दहेज ठुकराकर केवल एक चांदी का सिक्का लिया है।

Rana Feature

मीडिया से बातचीत करते हुए राणा ने बताया कि उसे ससुराल वालों ने 31 लाख कैश, लगभग दस करोड़ के खनन के ठेकों का दस्तावेज और सोने के गिफ्ट दिए थे, जो उसने लौटा दिए हैं। उसने कहा कि दहेज में उसने सिर्फ चांदी का एक सिक्का लिया है।

गौरतलब है कि साल 2013 में दिल्ली की विशेष अदालत ने पूर्व सांसद फूलन देवी की हत्या का दोषी पाते हुए शेर सिंह राणा को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी, जबकि उसके तीन सहयोगियों को बरी कर दिया था। अब मामला ऊपरी अदालत में चल रहा है। बीते साल राणा को दिल्ली हाईकोर्ट से जमानत मिल गई थी और तब से वह जमानत पर है।

Ppppp

तिहाड़ से अफगानिस्तान तक

आपको बता दें कि साल 2001 में दिल्ली के अशोका रोड पर तत्कालीन सपा सांसद फूलन देवी की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। हत्या का आरोप शेर सिंह राणा और उसके तीन दोस्तों पर लगा था। देहरादून के प्रेस क्लब में शेर सिंह और उसके दोस्तों ने मीडिया की मौजूदगी में पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया था।

पुलिस के अनुसार राणा ने बहमई हत्याकांड में मारे गए 22 ठाकुरों की हत्या का बदला लेने के लिए फूलन देवी की हत्या की बात कही थी। वर्ष 2004 में शेर सिंह राणा नाटकीय ढंग से देश की सबसे सुरक्षित समझी जाने वाली दिल्ली की तिहाड़ जेल से फरार हो गया था। तिहाड़ से निकलकर वह बांग्लादेश, दुबई होते हुए अफगानिस्तान पहुंच गया।

53eca1f9bf115.image_

उस समय राणा ने अफगानिस्तान से पृथ्वीराज चौहान की समाधि से मिट्टी लाने का दावा भी किया था। फिर काफी वक्त गुजरने के बाद उसकी फिर से गिरफ्तारी हो गई। तब से दिल्ली की तिहाड़ जेल में रह रहे राणा को वर्ष 2017 में जमानत मिली।

शेर सिंह राणा ने 2012 में उत्तर प्रदेश के जेवर विधानसभा से निर्दलीय चुनाव भी लड़ा था, लेकिन हार गया।


कमेंट करें