नेशनल

PM मोदी ने किया KMP एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन, दिल्ली में प्रदुषण पर लग सकेगी लगाम

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1528
| नवंबर 19 , 2018 , 13:51 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार के दिन यानी आज (KMP) एक्सप्रेस-वे कुंडली-मानेसर-पलवल का उद्घाटन कर दिया है। इस एक्सप्रेसवे को वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे भी कहते हैं। यह आगे ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे से जुड़ा है, जिसका उद्घाटन कुछ महीनों पहले हुआ था। केएमपी के शुरू होने से अन्य प्रदेशों के वाहन बिना दिल्ली में प्रवेश किए आ जा सकेंगे। इससे दिल्ली को जाम और प्रदूषण से राहत मिलेगी।

नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन के दौरान रैली में कहा हरियाणा का मतलब हिम्मत होता है, यहां के युवा सीमा पर खड़े होकर देश के लिए लड़ते हैं। पीएम ने कहा कि इस एक्सप्रेस वे प्रोजेक्ट के शुरू होते समय, इस पर 1200 करोड़ रुपए के खर्च का अनुमान था; लेकिन आज इतने वर्षों की देरी के कारण इसकी लागत बढ़ कर के 3 गुना से भी अधिक हो गई। मोदी ने यह भी रैली में कहा कि इस एक्सप्रेस-वे का उपयोग दिल्ली के कामनवेल्थ गेमों के लिए होना था, लेकिन कामनवेल्थ खेल की दुर्गति की गई, वही कहानी इस एक्सप्रेस-वे की भी सबूत बन गई।


कुंडली से मानेसर तक 83.320 किलोमीटर लंबे इस हिस्से पर 4 आरओबी, 14 छोटे-बड़े ब्रिज मिलाकर, 56 ऐग्रिकल्चरल व्हीक्यूलर अंडरपास और अन्य अंडरपास, 7 इंटरसेक्शन और 7 टोल प्लाजा बनाए गए हैं। इस हिस्से पर मीडियन की चौड़ाई 8 मीटर रखी गई है। पहले यात्रियों के लिए खोले जा चुके केएमपी एक्सप्रेस-वे की लंबाई लगभग 52.330 किलोमीटर है, जिस पर 32 ऐग्रिकल्चरल व्हीक्यूलर अंडरपास और अन्य अंडरपास, 3 इंटरसेक्शन और 4 टोल प्लाजा बनाए गए हैं।

120 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से दौड़ेंगी गाड़ियां-:

मानेसर से पलवल तक के इस हिस्से पर 15 जुलाई 2018 से टोल क्लेक्शन का काम शुरू किया जा चुका है। इस एक्सप्रेस-वे को इस प्रकार से डिजाइन किया गया है कि लाइट वीइकल 120 किलोमीटर प्रति घंटा और हेवी वीइकल 100 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चल सकते हैं।

वैसे पलवल से मानेसर के बीच वाहनों का आना-जाना साल 2016 से ही शुरू हो गया था। केएमपी को वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे भी कहा जाता है और यह आगे जाकर ईस्टर्न पेरिफेरल वे से मिला हुआ है, जिसे केजीपी कहते हैं। ईस्टर्न और वेस्टर्न पेरिफेरल को मिलाकर दिल्ली के आसपास एक 'रिंग एक्सप्रेसवे' तैयार हो जाएगा, जो उन वाहनों के लिए बायपास का काम करेगा जो दिल्ली में नहीं घुसे बिना आगे जाना चाहते हैं।


कमेंट करें