नेशनल

मोबिलिटी पर PM मोदी ने दिया सात 'C' का फॉर्मूला, बोले- MOVE पर है हमारी इकोनॉमी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2004
| सितंबर 7 , 2018 , 14:34 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के पहले विश्व मोबिलिटी शिखर सम्मेलन ‘मूव’ का उद्घाटन किया। नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आोजित ग्लोबल मोबिलिटी शिखर सम्मेलन 'MOVE' के उद्घाटन के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बेहतर मोबिलिटी बेहतर नौकरियां और स्मार्ट बुनियादी ढांचे प्रदान करती है और जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाती है। बता दें कि सम्मेलन में इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहन और साझा मोबिलिटी को प्रोत्साहन देने जैसे मुद्दों पर चर्चा होगी। नीति आयोग दो दिन के शिखर सम्मेलन का आयोजन कर रहा है। यह 7 से 8 सितंबर तक चलेगा।

MOVE पर है हमारी अर्थव्यवस्था

पहली ग्लोबल मोबिलिटी समिट 'मूव' (MOVE) को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, "निश्चित रूप से भारत 'MOVE' पर है (आगे बढ़ रहा है), हमारी अर्थव्यवस्था 'MOVE' पर है। पीएम मोदी ने कहा कि भारत में मोबिलिटी के भविष्य को लेकर मेरा विजन सात 'C' पर आधारित है। यानी सबके लिए हो (Common), सबसे जुडा़ हो (Connected), सबके लिए सुविधाजनक हो (Convenient), भीड़-भाड़ से मुक्त (Congestion-free), जोश के साथ (Charged), साफ (Clean) और अग्रणी हो (Cutting-edge)।

कारों से ध्यान हटाएं, सार्वजनिक परिवहन पर जोर दें - मोदी

पीएम मोदी ने उद्घाटन भाषण में सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा दिए जाने पर यह कहते हुए जोर दिया कि इससे अर्थव्यवस्था और पर्यावरण को पहुंच रहे नुकसान को कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा, 'पब्लिक ट्रांसपोर्ट ही हमारी आवाजाही की आधारशिला होनी चाहिए। इसलिए, हमें कारों से ध्यान हटाकर सार्वजनिक परिवहन पर जोर देना होगा।' उन्होंने आगे कहा कि आर्थिक और पर्यावरण की दृष्टि से हो रहा नुकसान रोकने के लिए अबाधित आवाजाही सुनिश्चित करना बेहद महत्वपूर्ण है। पीएम मोदी ने कहा कि मोबिलिटी अर्थव्यवस्था को गति देने में कूंजी की तरह है। बेहतर मोबिलिटी ट्रैवल और ट्रांस्पोर्टेशन के बोझ को कम करता है और आर्थिक गति को तेजी प्रदान करता है। यह पहले से ही एक प्रमुख नियोक्ता है और अगली पीढ़ी के लिए यह नौकरियों का सृजन भी कर सकता है।

हम दुनिया की तेजी से बढ़ रहे है स्टार्टअप हब हैं- पीएम

पीएम ने 'मूव' को भारत की प्रगति से जोड़ते हुए कई बातों का जिक्र किया। उन्होंने कहा, 'हमारी अर्थव्यवस्था बढ़ रही है- हम दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्था हैं।' मोदी ने कहा, 'हमारे शहर और नगर (सिटीज ऐंड टाउन्स) बढ़ रहे हैं- हम 100 स्मार्ट सिटीज बना रहे हैं। हमारे इन्फ्रास्ट्रक्चर बढ़ रहे हैं- हम सड़क, हवाई अड्डे, रेल लाइन और बंदरगाह तेज गति से बना रहे हैं। हमारे गुड्स बढ़ रहे हैं- जीएसटी से हमें सप्लाइ चेन और वेयरहाउस नेटवर्क्स को तर्कसंगत बनाने में मदद मिली है। हमारे सुधार (रिफॉर्म्स) आगे बढ़ रहे हैं- हमने बिजनस करने के लिहाज से भारत को आरामदायक स्थान बना दिया है। हमारे जनजीवन आगे बढ़ रहे हैं- परिवारों को घर, शौचालय, एलपीजी सिलिंडर, बैंक अकाउंट और लोन मिल रहे हैं। हमारे युवा बढ़ रहे हैं- हम दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता स्टार्टअप हब हैं।'

क्या है मोबिलिटी समिट?

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कान्त ने शिखर सम्मेलन से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर बताया कि सम्मेलन का मुख्य मकसद भारत में लोगों के यात्रा करने के तरीके में बड़ा बदलाव लाना है। वहीं, नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि भारत को मोबिलिटी के लिए एकीकृत सम्मिलित नीति की रूपरेखा बनाने की जरूरत है। उनके मुताबिक, मोबिलिटी क्षेत्र में आनेवाले बदलावों की वजह से भारत अधिक रोजगार के अवसर पैदा कर पाएगा और देश के नागरिकों के जीवन को सुगम किया जा सकेगा।

इससे पहले इस सम्मेलन को लेकर नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कान्त ने कहा कि सम्मेलन का मुख्य मकसद भारत में लोगों के यात्रा करने के तरीके में बड़ा बदलाव लाना है। संवाददाता सम्मेलन में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, बिजली, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सचिव भी मौजूद थे। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अमेरिका, जापान, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, न्यूजीलैंड, आस्ट्रिया, जर्मनी और ब्राजील के दूतावासों तथा निजी क्षेत्र के प्रतिनिधि सम्मेलन में हिस्सा लेंगे।


कमेंट करें