बिज़नेस

PNB SCAM: क्या न्यूयॉर्क में हैं नीरव मोदी? पकड़ने के लिए इंटरपोल ने जारी किया नोटिस

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1655
| फरवरी 16 , 2018 , 11:48 IST

नीरव मोदी के देश के बाहर होने की सूचना के बाद इंटरपोल को भी अलर्ट कर दिया गया है। डिफ्यूजन नोटिस जारी कर इंटरपोल के जरिए नीरव मोदी और अन्य सहयोगियों को पकड़ने की कोशिश की जा रही है। ईडी सूत्रों के मुताबिक कल खबर आई थी कि नीरव मोदी देश छोड़ चुका है और न्यूयॉर्क में हो सकता है।

पीएनबी महाघोटाले में इंटरपोल की ओर से नीरव मोदी, अनी मोदी, मेहुल चौकसी और निशाल मोदी के खिलाफ डिफ्यूजन नोटिस जारी किया गया है। इससे पकड़ने और आरोपियों की लोकेशन डिटेक्ट करने की कार्रवाई तेज होगी।

एक जनवरी 2018 को ही भारत छोड़कर भाग गया था नीरव मोदी

अधिकारियों ने कहा कि पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ धोखाधड़ी को लेकर इस समय सुर्खियों में चल रहा नीरव मोदी बैंक की ओर से इस मामले में शिकायत मिलने से काफी दिन पहले गत एक जनवरी को ही देश से बाहर चला गया था। उन्होंने कहा कि नीरव का भाई निशाल बेल्जियम का नागरिक है। वह भी एक जनवरी को भारत छोड़ गया। हालांकि वे दोनों साथ गए थे या अलग अलग इसकी जांच अभी की जानी है। नीरव की पत्नी के साथ अमेरिकी नागरिक एमी 6 जनवरी को यहां से निकलीं। उसके चाचा तथा गीतांजलि जूलरी के प्रवर्तक मेहुल चौकसी चार जनवरी को देश छोड़कर चले गए।

बैंक को 16 जनवरी को चला घोटाले का पता

बैंक को इस मामले में संदेह 16 जनवरी को हुआ जबकि आरोपी कंपनी डायमंड आर यूएस, सोलार एक्सपोटर्स और स्टेलर डायमंड्स (सभी सीबीआई की एफआईआर में आरोपी हैं) ने आयात दस्तावेजों के साथ उससे संपर्क किया और गारंटी पत्र (एलओयू) जारी करने का आग्रह किया ताकि विदेशी आपूर्तिकर्ताओं को भुगतान कर सकें। एफआईआर के अनुसार बैंक को पहले की कोई जानकारी अपनी प्रणाली में नहीं मिली।

क्या न्यूयॉर्क में है नीरव मोदी

अधिकारियों के अनुसार पीएनबी ने 280 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के बारे में 29 जनवरी को केंद्रीय जांच ब्यूरो सीबीआई को शिकायत की थी। ऐसा माना जा रहा है कि नीरव मोदी न्यूयॉर्क में हैं। अधिकारियों के अनुसार एजेंसी ने तुरंत कार्रवाई करते हुए 31 जनवरी को एफआईआर दर्ज की। उसने मुंबई व सूरत में 20 स्थानों पर तलाशी ली। चार फरवरी को नीरव मोदी तथा तीन आरोपियों के खिलाफ ‘लुक आउट नोटिस’ जारी किया गया।

अधिकारियों के अनुसार इस सवाल की भी पड़ताल की जा रही है कि पीएनबी ने सीबीआई को शिकायत में सारी जानकारी न देकर, यह किस्तों में देने का फैसला क्यों किया।

साभार: NDTV

डिस्क्लेमर: यह समाचार सीधे सिंडिकेट फीड से प्रकाशित की गई है और इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है।


कमेंट करें