राजनीति

कपिल सिब्बल का बड़ा सवाल, पूछे- कौन था PNB में सरकारी नॉमिनी ?

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
961
| फरवरी 24 , 2018 , 15:09 IST

बैंकिंग सेक्टर के अब तक के सबसे बड़े घोटाले के उजागर होने के बाद से कांग्रेस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ हमलावर है। पूर्व कानून मंत्री और वरिष्ठ मंत्री कपिल सिब्बल ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में हुए 11,300 करोड़ रुपये के घोटाले पर कहा कि ये जो बैंकिंग लॉस है वो असली है, ये फर्जी नहीं है।

मोदी राज में लूटेरों के डर से लोगों की नींद गायब- सिब्बल

सिब्बल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज सकते हुए कहा कि लगता है दुनिया में सबसे महंगा चौकीदार हमारे देश का है। उन्होंने कहा, 'आज देश के लोगों को नींद नहीं आ रही है, जबकि इसके पहले प्रधानमंत्री जी कहते थे कि वो कम सोते हैं!'
सिब्बल ने पूरे लेनदेन की फोरेंसिंक ऑडिट कराने की मांग की। उन्होंने कहा, 'NIMO (नीरव मोदी) जी घोटाले में हम प्रधानमंत्री जी से आग्रह करते हैं कि आरबीआई सभी स्विफ्ट लेनदेन का फोरेंसिक ऑडिट करे।'

आरबीआई पर भी सिब्बल ने उठाए सवाल

पीएनबी घोटाले में आरबीआई की लापरवाही की कांग्रेस ने कहा, 'जो आरबीआई आज तक नोटबंदी के बाद जमा किये गये नोट गिन रहा है उसपर देश क्या विश्वास करेगा?'

पीएनबी में सरकारी नॉमिनी कौन था?

सिब्बल ने पूछा, 'वित्त मंत्रालय बताये कि पीएनबी में सरकारी नामिनी कौन था? क्या उसने अमृतसर से हाल ही में चुनाव नहीं लड़ा था?' उन्होंने कहा, 'आज बैंक कर्ज देने से डरने लगे हैं। अगर रातों रात कोई करोड़पति हो गया है तो वो बैंकों के पैसे से हुआ है।'
सिब्बल ने कहा कि देश को लगभग 21 हजार करोड़ का नुकसान हो चुका है और आज सुबह की खबर है कि एक और शख्श ने 390 करोड़ का घोटाला कर दिया है। उन्होंने आगे कहा कि अगर देश के बैंकिंग सिस्टम पर सवाल उठने लगे तो देश में कोई निवेश नहीं आएगा।

लोकपाल नियुक्ति पर सिब्बल ने कहा, 'प्रधानमंत्री जी ने 2014 के बाद से लोकपाल नियुक्त क्यों नहीं किया? प्रधानमंत्री को सुप्रीम कोर्ट आदेश दे रहा है कि लोकपाल नियुक्त करे सरकार।' ध्यान रहे की केंद्र सरकार ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि लोकपाल की नियुक्ति के संबंध में चयन समिति की बैठक 1 मार्च को प्रस्तावित है।

पीएनबी फ्रॉड पर बोले जेटली- रेग्युलेटर्स को भी जवाबदेह होना पड़ेगा

पीएनबी में सामने आए बैंकिंग के महाघोटाले पर बोलते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि बड़े स्तर के फ्रॉड को लेकर अलर्ट नहीं होना चिंताजनक है। जेटली ने कहा कि ऐसे फ्रॉड को रोकने के लिए रेग्युलेटर्स को सेक्टर पर तीसरी आंख से भी नजर रखनी पड़ेगी। जेटली ने कहा कि भारत में केवल नेताओं को जवाबदेह माना जा रहा है, रेग्युलेटर्स को नहीं।

वित्त मंत्री ने नोटबंदी और जीएसटी जैसे कदमों की तारीफ की। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से हम कैशलेस इकॉनमी की तरफ बढ़े हैं। जेटली ने कहा कि जीएसटी का फायदा अभी आंशिक रूप से ही मिल पाया है। सरकार कदम उठा रही है। जीएसटी से देश के रेवेन्यू को रफ्तार मिलने की उम्मीद है।


कमेंट करें