बिज़नेस

PPF और NSC से जुड़े नियमों में बड़ा बदलाव, NRI बनते ही बंद हो जाएगा अकाउंट

icon अमितेष युवराज सिंह | 1
1557
| अक्टूबर 30 , 2017 , 14:10 IST

केंद्र सरकार ने नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC) और पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (PPF) से जुड़े नियम बदल दिए हैं। अगर कोई व्यक्ति अपना निजी दर्जा बदल कर एनआरआई हो जाता है तो मैच्यॉरिटी से पहले ही उसके एनएससी और पीपीएफ खाते बंद कर दिए जाएंगे।

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड एक्‍ट में संशोधन पब्लिक प्रॉविडेंट फंड एक्‍ट, 1968 में संशोधन के अनुसार इस स्‍क्‍ीम के तहत अकाउंट खोलने वाला रेजीडेंट बाद में एनआरआई बन जाता है तो उसका अकाउंट उसी दिन से क्‍लोज माना जाएगा जिस दिन से वह एनआरआई बना है। ऐसे केस में स्‍कीम के तहत 4 फीसदी इंटरेस्‍ट का भुगतान किया जाएगा। 4 फीसदी इंटरेस्‍ट पोस्‍ट ऑफिस सेविंग अकाउंट पर मिलता है। पब्लिक प्रॉविडेंट फंड के नियमों में संशोधन को इस माह की शुरूआत में अधिसूचित किया गया है।

इसी तरह किसी व्यक्ति को यह दर्जा मिलते ही उसके एनएससी का भुगतान हो जाएगा, या ऐसा माना जाएगा कि भुगतान हो चुका है। इस पर ब्याज उसी तारीख तक मिलेगा।

एनएससी पर भी ऐसी ही अलग अधिसूचना जारी कर बताया गया कि अगर खाताधारक के दर्ज में बदलाव होता है और वह मैच्यॉरिटी से पहले एनआरआई बन जाता है तो खाता बंद कर दिया जाएगा और ब्याज उसी मुताबिक दिया जाएगा। पोस्ट ऑफिस द्वारा चलाई जा रही योजनाएं जैसे एनएससी, पीपीएफ, मासिक आय योजना और अन्य समय से जमा वाली योजनाएं अनिवासी भारतीयों के लिए नहीं हैं। पिछले महीने सरकार ने अक्टूबर-दिसंबर के लिए पीपीएफ को बिना बदले 7.8 प्रतिशत पर रखा था।

क्या है PPF और NSC-

पीपीएफ अकाउंट में आपको 15 साल तक निवेश करना होता है। महज 100 रुपये में यह खाता खुल जाता है। इसमें आपको सालाना न्यूनतम 500 और अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक जमा करने होते हैं। वहीं, नेशनल सेविंग्स स्कीम भी छोटी-छोटी बचत को बढ़ावा देने के लिए है। इसमें निवेश कर के टैक्स छूट समेत अन्य फायदे लिए जा सकते हैं।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें