नेशनल

अयोध्या की दिवाली में बोले योगी- हम रामराज्य की कल्पना साकार करेंगे

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
464
| अक्टूबर 18 , 2017 , 19:07 IST

योगी आदित्यनाथ बुधवार शाम दोनों डिप्टी सीएम और मंत्रियों के साथ अयोध्या में दिवाली मनाने पहुंचे। इस मौके पर यूपी के गवर्नर राम नाईक भी मौजूद थे। सरयू के तट पर रामकथा पार्क में योगी और राम नाईक ने राम, सीता और लक्ष्मण का माला पहनाकर स्वागत किया, आरती उतारी और राजतिलक भी किया। बाद में अपने भाषण में यूपी सीएम ने कहा- हजारों वर्ष पहले त्रेता युग की स्मृतियों से जोड़ने की कोशिश कर रही है, जब 14 सालों के बाद राम जी का अयोध्या आगमन हुआ होगा। अयोध्या ने दुनिया को दिवाली दी, लेकिन उस पर प्रश्नचिह्न लगे... क्यों?

ये सिर्फ पहला चरण, तीन और बाकी हैं

योगी ने कहा, “इस अयोध्या ने दुनिया को वो सबकुछ दिया जो मानवता का रास्ता मजबूत करता हो। रामराज्य दिया, जिसमें दुख और दरिद्रता का स्थान ना हो। अयोध्या क्यों उपेक्षित हुआ, क्यों लगातार नकारात्मक चर्चा का विषय बना। नकारात्मकता से सकारात्मकता से ले जाने का अभियान है हमारा। चार चरणों में ये कार्यक्रम पूरा होना है। अभी पहला चरण है।

सीएम योगी ने कहा आज देश अपनी आजादी के 70 साल पूरा कर चुका है। पीएम के नेतृत्व में भारत को समर्थ और सशक्त भारत बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। ये प्रेरणा देता है कि जीवन तपकर ही बनता है और दीप जलकर ही रोशनी देता है। दीपावली का उत्सव देश और दुनिया को अयोध्या ने दिया, लेकिन अयोध्या खुद उपेक्षित हो गई। अयोध्या लगातार प्रहार झेलने को मजबूर हुई। 133 करोड़ रुपए की लागत से पर्यटन विभाग की कई योजनाएं शुरू हुई हैं।

सरयू आरती का शुभारंभ

अयोध्या ही नहीं पूरे यूपी के भीतर अयोध्या-काशी-मथुरा-नैमिषारण्य, विंध्यवासिनी का धाम हो या फिर पुरातात्विक महत्व के स्थल हों, सबका विकास होगा। यूपी दुनिया में टूरिज्म का हब बने, इसकी शुरुआत करने जा रहे हैं। अयोध्या अपने पुराने वैभव के साथ फिर से दुनिया में स्थापित हो सके। अयोध्या मानवता की धरती है और इसने रामराज्य के माध्यम से पूरी दुनिया को मानवता का पाठ पढ़ाया है। नदी संस्कृति को बचाने के लिए सरयू आरती का शुभारंभ हमारी सरकार ने किया।

यहां बहुत सारे घाट ऐसे हैं जहां सरयू की धारा नहीं आ रही है, वहां पर भी सरयू की धारा लाने के लिए योजना लाए हैं। अगर सचमुच हमें अपने जीवन में और आने वाली पीढ़ी को खुशहाली देनी है तो अपनी विरासत और महापुरुषों का सम्मान करना पड़ेगा। विकास के रास्ते पर चलकर हम समाज के अंतिम पायदान पर बैठे व्यक्ति को जोड़ेंगे। पर्यटन की दृष्टि से उत्तर प्रदेश को बढ़ाने के लिए कोशिश कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि एक समय के बाद लोगों को रोजगार चाहिए, सम्मान चाहिए। यूपी सरकार इस जिम्मेदारी को स्वीकार करने के लिए आई है। हजारों वर्ष पहले त्रेता युग की स्मृतियों से जोड़ने की कोशिश कर रही है, जब 14 सालों के बाद राम जी का अयोध्या आगमन हुआ होगा। अयोध्या ने दुनिया को दिवाली दी, लेकिन उस पर प्रश्नचिह्न लगे... क्यों?

देखिये सरयू के तट पर 1,71 लाख दीयों की दिवाली


कमेंट करें