इंटरनेशनल

दावोस में ट्रंप के निशाने पर मीडिया, बोले- नहीं मिलनी चाहिए ज्यादा आजादी

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
672
| जनवरी 26 , 2018 , 20:07 IST

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उनके लिए अमेरिका सबसे पहले (America first) है, लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि अमेरिका अकेला है। शुक्रवार को स्विट्जरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हम मुक्त व्यापार का समर्थन करते हैं, लेकिन इसके लिए जरूरी है कि यह निष्पक्ष होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मुक्त व्यापार के लिए दोनों ओर से निष्पक्षता जरूरी है।

अमेरिका आगे बढ़ेगा तो दुनिया आगे बढ़ेगी

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अगर अमेरिका आगे बढ़ता है, तो दुनिया आगे बढ़ती है। यदि कुछ देश सिस्टम का दुरुपयोग करते हैं, तो हम मुक्त और खुला व्यापार का समर्थन नहीं कर सकते हैं।

मीडिया को नहीं देनी चाहिए ज्यादा आजादी:ट्रंप

उन्होंने कहा, ''मैं यहां पर अमेरिका के लोगों के हितों का प्रतिनिधित्व करता हूं। साथ ही इस बात की पुष्टि करता हूं कि अमेरिका के दोस्त और सहयोगी दुनिया को बेहतर बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि हर बच्चे का लालन-पालन हिंसा, गरीबी और भय मुक्त माहौल में हो। ट्रंप ने कहा कि हम अपने सहयोगी देशों के साथ मिलकर ISIS जैसे आतंकी संगठनों का विनाश करने के लिए काम कर रहे हैं। इस दौरान ट्रंप ने मीडिया को इतनी ज्यादा आजादी दिए जाने की भी कड़ी आलोचना की।

अमेरिकी संरक्षणवाद पर मोदी ने अपने भाषण के जरिये साधा निशाना

इससे पहले इसी सप्ताह पीएम मोदी ने वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम को संबोधित किया था। इस दौरान उन्होंने आतकंवाद, जलवायु परिवर्तन और संरक्षणवाद को दुनिया के सामने तीन सबसे बड़ी चुनौती बताया था। पीएम मोदी के दावोस में दिए गए भाषण की दुनियाभर में चर्चा हुई थी। यहां तक कि भारत के पड़ोसी प्रतिद्वंदी चीन ने भी पीएम के भाषण की तारीफ की थी।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि हमने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संरक्षणवाद के खिलाफ दिया भाषण सुना है। उन्होंने कहा, 'पीएम मोदी का बयान दर्शाता है कि मौजूदा वक्त में ग्लोबलाइजेशन दुनिया का ट्रेंड बन गया है। इससे विकासशील देशों समेत सभी मुल्कों को लाभ पहुंचता है। संरक्षणवाद के खिलाफ लड़ने और ग्लोबलाइजेशन को बढ़ावा देने में भारत और चीन के बीच काफी समानता है।


कमेंट करें