नेशनल

भारत-इटली के बीच 6 महत्वपूर्ण समझौते, 8.8 अरब डॉलर का होगा साझा व्यापार

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
672
| अक्टूबर 30 , 2017 , 18:19 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके इटली के समकक्ष पाओलो जेंटिलोनी की नेतृत्व में हुई प्रतिनिधिमंडल स्तर की बैठक के बाद दोनों देशों ने सोमवार को छह समझौतों पर हस्ताक्षर किए, जिसमें रेल सुरक्षा और ऊर्जा क्षेत्र भी शामिल हैं। दोनों पक्षों ने रेलवे की सुरक्षा के लिए सहयोग के एक संयुक्त घोषणा-पत्र पर हस्ताक्षर किए।

ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग के लिए हुए समझौते

भारत और इटली के बीच ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। वहीं, इटली की ट्रेड एजेंसी और इन्वेस्ट इंडिया के बीच आपसी सहयोग को लेकर एक अन्य एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। भारत-इटली कूटनीतिक रिश्तों के 70 साल पूरा होने के उपलक्ष्य में भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद और इटली के विदेशी मामलों और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग मंत्रालय के बीच एक तीसरे एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए।

दोनों देशों के विदेश मंत्रालय के बीच हुए समझौते

इटली के विदेशी मामलों और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग मंत्रालय की प्रशिक्षण इकाई तथा भारत के विदेश मंत्रालय के विदेश सेवा संस्थान के बीच एक चौथे एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। भारत और इटली के बीच सांस्कृतिक सहयोग पर एक कार्यकारी प्रोटोकॉल पर भी हस्ताक्षर किए गए।

जेंटिलोनी यहां रविवार को पहुंचे हैं। 2007 में तत्कालीन प्रधानमंत्री रोमानो प्रोडी की यात्रा के बाद इटली के किसी प्रधानमंत्री की यह पहली भारत यात्रा है। भारत और इटली के बीच मजबूत संबंधों की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार को 8.8 अरब डॉलर से अधिक होने की संभावना है।

8.8 अरब डॉलर का होगा संयुक्त व्यापार

मोदी ने भारत की यात्रा पर आए अपने इतावली समकक्ष पाओलो जेंटिलोनी के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, "भारत और इटली के बीच बहुत अच्छा संबंध है। हमारे बीच मजबूत वाणिज्यिक सहयोग रहा है। भारत और इटली में अपने द्विपक्षीय व्यापार को 8.8 अरब डॉलर से आगे बढ़ाने की क्षमता है। मोदी ने कहा कि दोनों देशों ने कई क्षेत्रों में समझौता किया है, जिसमें खाद्य प्रसंस्करण, अवसंरचना और पर्यटन प्रमुख रूप से शामिल हैं, जहां दोनों देश सहयोग को मजबूत कर सकते हैं तथा उनकी अर्थव्यवस्थाओं में योगदान दे सकते हैं। मोदी ने यह भी कहा कि दोनों ही देश आतंकवाद और साइबर अपराध से निपटने के लिए बचनबद्ध हैं।


कमेंट करें