नेशनल

IIT बॉम्बे दीक्षांत समारोह में पहुंचे मोदी, तकनीक को बताया विकास की नर्सरी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1579
| अगस्त 11 , 2018 , 12:44 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुंबई पहुंच गए हैं। मुंबई एयरपोर्ट पर महाराष्ट्र के राज्यपाल विद्यासागर राव के अलावा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पीएम मोदी का स्वागत किया। इस दौरान महाराष्ट्र के कई मंत्री भी मौजूद थे।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुंबई में आईआईटी के दीक्षांत समारोहन के लिए पहुंच गए हैं। मुंबई एयरपोर्ट पर महाराष्ट्र के राज्यपाल विद्यासागर राव और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पीएम मोदी का स्वागत किया। स्वागत के दौरान महाराष्ट्र सरकार के कई मंत्री भी मौजूद थे।

पीएम ने IIT मुंबई में अपने भाषण की शुरुआत खुदीराम बोस को श्रद्धांजली अर्पित करके शुरु किया। पीएम ने खुदीराम बोस जी के बलिदान के महत्व पर प्रकाश डाला। पीएम ने कहा, 'आज इस अवसर पर सबसे पहले मैं डिग्री पाने वाले देश-विदेश के विद्यार्थियों और उनके परिवारों को बधाई देता हूं, उनका अभिनंदन करता हूं। बीते 6 दशकों की निरंतर कोशिशों का ही परिणाम है कि आईआईटी बॉम्बे ने देश के चुनिंदा उत्कृष्ट संस्थानों में अपनी जगह बनाई है।

शुक्रवार को प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया कि दीक्षांत समारोह के बाद पीएम आईआईटी मुंबई में ऊर्जा विज्ञान एवं इंजीनियरिंग के नए भवन और सेंटर फॉर एन्वॉयरामेंटल साइंस एंड इंजीनियरिंग का उद्घाटन करेंगे। इसके बाद पीएम दिल्ली लौट जाएंगे।

स्टार्टअप इंडिया-:

पीएम मोदी ने स्टार्ट अप योजना का भी जिक्र किया। उन्होंने बताया, 'स्टार्ट अप की जिस क्रांति की तरफ देश आगे बढ़ रहा है, उसका एक बहुत बड़ा माध्यम हमारे आईआईटी हैं। आज दुनिया IIT को यूनीकॉर्न स्टार्ट अप्स की नर्सरी तक मान रही है। ये एक प्रकार से तकनीक के दर्पण हैं, जिसमें दुनिया को भविष्य नजर आता है।'

IIT की नई परिभाषा-:

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में आईआईटी को एक नई संज्ञा भी दी। उन्होंने कहा, 'IIT को देश और दुनिया इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के रूप में जानती है, लेकिन आज हमारे लिए इनकी परिभाषा थोड़ी बदल गई है। ये सिर्फ टेक्नोलॉजी की पढ़ाई से जुड़े स्थान भर नहीं रह गए हैं, बल्कि आईआईटी आज इंडियाज इंस्ट्रूमेंट और ट्रांसफोर्मेशन बन गए हैं।

इससे आगे पीएम मोदी ने कहा, 'मेरा आप सभी से भी इतना ही आग्रह है कि अपनी असफलता की उलझन को मन से निकालें और आकांक्षाओं पर फोकस करें। ऊंचे लक्ष्य, ऊंची सोच आपको अधिक प्रेरित करेगी, उलझन आपके टैलेंट को सीमाओं में बांध देगी।' पीएम ने कहा कि सिर्फ आकांक्षाएं होना ही काफी नहीं है, लक्ष्य भी अहम होता है।

परीक्षा पर चर्चा' कार्यक्रम को किया था संबोधित-:

पीएम ने इसी वर्ष दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में 'परीक्षा पर चर्चा' कार्यक्रम में छात्रों को संबोधित करते हुए कई अहम टिप्स दिए थे। इस कार्यक्रम में पीएम मोदी ने एक घंटे से भी अधिक समय तक कई रोचक बातें की थीं और परीक्षा को लेकर बच्चों के सवालों के जवाब दिए थे और सफलता के कुछ टिप्स भी दिए। इस कार्यक्रम में उन्होंने देशभर के करीब 10 करोड़ छात्र-अध्यापकों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जोड़ा था।


कमेंट करें