नेशनल

लालू को सजा मिलने से पहले सुशील मोदी ने कहा, उनके खून में अपराध और जेल यात्रा है

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
351
| जनवरी 2 , 2018 , 21:53 IST

चारा घोटाला मामले में लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिए जाने के बाद अदालत बुधवार को सजा सुनाने वाली है। अभी लालू प्रसाद यादव जेल में हैं। अदलात के सजा सुनाने के पहले आज यानि मंगलवार को बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने लालू प्रसाद पर निशाना साधते हुआ कहा कि, लालू  'आदतन अपराधी और जेल यात्री' है। इतना ही नहीं उन्होंने आगे कहा कि, लालू प्रसाद यादव  'कभी सुधरने वाले नहीं हैं।'

बता दें भाजपा नेता सुशील मोदी ने इतना नहीं इसके आगे भी आरोप लगते हुए कहा कि, राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले में एक बार सजा होने के बावजूद भी नहीं सुधरा इसके बावजूद भी उन्होंने एक हजार करोड़ की बेनामी सम्पत्ति अपने नाम जमा कर रखी है।

इसे भी पढ़ें: साल के पहले ही दिन महाजाम में दिल्ली, इंडिया गेट पर जुटे 1 लाख से ज्यादा लोग !

जानकरी के लिए बता दें राजद ने भाजपा पर यह आरोप लगाया कि,  भाजपा पर साजिश के तहत ही लालू को जेल भेजा गया।जबकि राजद के इस कथन के आरोपों से साफ इनकार करते हुए सुशिल मोदी ने कहा कि किसी को भी बरी करना या सजा देना सिर्फ अदालत का काम है ना की किसी पार्टी का या किसी का इंसान का क्योंकि जो जैसा करेगा वैसा भरेगा।

Lalu_social_pti

राजद के जातीय आधार पर सजा के आरोप से इनकार करते हुए उपमुख्यमंत्री ने कहा, "अदालत जाति देख कर सजा नहीं देती। जाति कार्ड काफी पुराना हो चुका है और अब बिहार काफी आगे निकल चुका है। अदालत ने तथ्यों व सबूतों के आधार पर ही चारा घोटाले के दूसरे मामले में लालू को दोषी करार दिया है। लालू को कड़ी सजा मिलने की भी संभावना है।"

Lalu-prasad-yadav-759

सुशील मोदी ने कहा कि लालू प्रसाद को 15 साल बिहार में राज करने का मौका मिला लेकिन उन्होंने पूरे बिहार को अंधेरे में रखा। उन्हें लगता था कि बिहार के लोग हमेशा लालटेन के साथ रहेंगे मगर अब बिहार से लालटेन युग समाप्त हो चुका है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि लालू प्रसाद को अपनी पार्टी का चुनाव चिन्ह बदल कर एलईडी बल्ब कर लेना चाहिए।

Lalu-Prasad-Yadav

भाजपा नेता ने कहा कि लालू प्रसाद जेल में रहें या बाहर, कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि वर्ष 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में अगर नीतीश कुमार साथ नहीं होते तो राजद के लिए 80 सीट जीतना संभव ही नहीं था।


कमेंट करें