राजनीति

राफेल पर उग्र हुए राहुल, कहा- 'PM ने किया बिचौलिए का काम, उन्हें जेल भेजना चाहिए'

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1770
| फरवरी 12 , 2019 , 12:55 IST

कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान नरेंद्र मोदी पर राफेल डील को लेकर फिर से हमला बोला है। राहुल गांधी ने इस प्रेस कांफ्रेंस में सबूत के तौर पर एक ईमेल का जिक्र किया। 'एयरबस कंपनी के एग्जक्यूटिव ने ईमेल में लिखा है कि फ्रांस के रक्षा मंत्री के ऑफिस में अनिल अंबानी गए थे। मीटिंग में अंबानी ने कहा था कि जब पीएम आएंगे तो एक एमओयू साइन होगा, जिसमें अनिल अंबानी का नाम होगा।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस पर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत के तत्कालीन रक्षा मंत्री को न मालूम था, न ही एचएएल को न ही विदेश मंत्री को...

लेकिन राफेल डील से 10 दिन पहले अनिल अंबानी को इस डील के बारे में मालूम था। इसका मतलब है कि प्रधानमंत्री अनिल अंबानी के मिडिलमैन की तरह काम कर रहे थे।

सिर्फ इसी आधार पर टॉप सेक्रेट को किसी के साथ शेयर करने को लेकर प्रधानमंत्री पर मुकदमा चलाया जाना चाहिए। उन्हें जेल भेजना चाहिए। यह देशद्रोह का मामला है।'

प्रेस कांफ्रेंस से पहले ट्वीट करके दी थी खुलासे की जानकारी-:

राहुल ने ट्वीट किया- “प्रिय छात्रों और देश के युवाओं, हर रोज राफेल को लेकर नए खुलासे हो रहे हैं। इन खुलासों से साफ हो रहा है कि प्रधानमंत्री ने अपने दोस्त अनिल अंबाली की आपके 30 हजार करोड़ रुपए चुराने में मदद की। राफेल स्कैम पर आप मेरी प्रेस कॉन्फ्रेंस सुबह 11 बजे से देखिए।”

इससे पहले सोमवार को लखनऊ में बहन प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ रोड शो के दौरान राहुल गांधी ने कहा था, "देश के चौकीदार ने उत्तर प्रदेश, दूसरे राज्यों और एयरफोर्स से पैसे चोरी किए, चौकीदार चोर है। उत्तर प्रदेश देश का दिल है। हम फ्रन्टफुट पर खेलेंगे। सिंधिया जी, प्रियंका जी और मैं तब तक नहीं थमेंगे जब तक कांग्रेस विचारधारा की सरकार राज्य में नहीं बन जाती।"

आज संसद में पेश हो सकती है कैग की रिपोर्ट-:

राफेल सौदे में कथित घोटाले के विपक्ष के आरोपों के बीच मोदी सरकार मंगलवार को संसद में कैग रिपोर्ट रखेगी। प्रोटोकॉल के तहत नियंत्रक व महालेखा परीक्षक (कैग) अपनी रिपोर्ट की एक प्रति राष्ट्रपति और दूसरी प्रति वित्त मंत्रालय को भेजते हैं। सूत्रों के अनुसार, राफेल पर कैग रिपोर्ट राष्ट्रपति को भेज दी गई है।

सूत्रों के अनुसार, कैग ने राफेल पर 12 चैप्टर की रिपोर्ट तैयार की है। रक्षा मंत्रालय ने राफेल विमान पर विस्तृत जवाब और संबंधित रिपोर्ट कैग को सौंपी थी। इसमें खरीद प्रक्रिया की जानकारी के साथ 36 राफेल विमानों की कीमत भी बताई गई थी।


कमेंट करें