राजनीति

थैंक यू जेटली जी बताने के लिए कि PM जो कहते हैं उसका अर्थ कुछ और होता है: राहुल गांधी

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
424
| दिसंबर 28 , 2017 , 08:48 IST

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली पर कटाक्ष किया है कि साबित हो गया कि पीएम मोदी जो कहते हैं, उसका अर्थ कुछ और होता है, जो अर्थ होता, वे वह नहीं कहते हैं।

दरअसल अरुण जेटली ने बुधवार को राज्यसभा में सफाई दी कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के बारे में जो प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में जो बात कही थी उसका वह मतलब या अर्थ नहीं था जो निकाला जा रहा है।

आपको बता दें कि कांग्रेस पीएम मोदी से माफी की मांग कर रही थी।

राज्यसभा में सदन के नेता जेटली ने कहा, '(मोदी द्वारा दिए गए) बयान ने मनमोहन सिंह या पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की निष्ठा पर न तो सवाल उठाया और न तो सवाल उठाने का उनका मकसद ही था। इस तरह की किसी भी तरह की धारणा पूरी तरह गलत है। हम इन नेताओं और देश के प्रति इनकी निष्ठा को उच्च सम्मान देते हैं।'

जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी और जेटली का एक साथ बयान ट्वीट करते हुए कहा, 'थैंक्यू मिस्टर जेटलाई, देश को यह याद दिलाने के लिए कि हमारे प्रधानमंत्री जो कहते हैं उसका वह अर्थ नहीं होता, और जो अर्थ होता है, पीएम वह बात नहीं कहते।' उन्होंने ट्विट के साथ #BJPLies हैशटैग का इस्तेमाल किया।

इस ट्वीट के साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष ने पीएम मोदी के गुजरात में दिए भाषण की क्लिप भी पोस्ट की है, जिसमें प्रधानमंत्री साफ तौर पर गुजराती में कह रहे हैं, “मणिशंकर अय्यर के घर में पाकिस्तान के हाई कमिश्नर, पाकिस्तान के भूतपूर्व विदेश मंत्री, भारत के भूतपूर्व उप राष्ट्रपति और भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की मणिशंकर अय्यर के घर में मीटिंग हुई। भाइयो-बहनों ये एक गंभीर बात है कि पाकिस्तान एक संवेदनशील मामला है, उस समय पाकिस्तान के हाई कमिश्नर के साथ इस प्रकार की गुप्त मीटिंग का कारण क्या है। और जब गुजरात में चुनाव चल रहा हो तब इस प्रकार की गुप्त मीटिंग का कारण बताएं। दूसरी बात, पाकिस्तान के पूर्व आर्मी डायरेक्टर जनरल अरशद रफीक यह बात कहे कि गुजरात में अहमद पटेल को मुख्यमंत्री बनाने के लिए साथ देना चाहिए।”

पीएम मोदी के इस बयान के बाद खूब हंगामा मचा था और कांग्रेस ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री से माफी की मांग की थी। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने स्वंय एक लिखित और वीडियो बयान में इन आरोपों का खंडन करते हुए कहा था कि एक प्रधानमंत्री द्वारा एक पूर्व प्रधानमंत्री पर ऐसे आरोप लगाना गरिमाहीन कृत है।गुजरात चुनाव के बाद शुरु हुए संसद के शीत सत्र में भी विपक्ष ने इस मुद्दे पर सरकार से सफाई की मांग की थी। दो दिनों के गतिरोध के बाद आखिर बुधवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राज्यसभा में इस पर सफाई देते हुए कहा कि पीएम मोदी ने गुजरात के भाषण में जो कहा उसका यह अर्थ नहीं


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें