खेल

पेस अटैक को मजबूत कर रहे खलील अहमद, मिल सकता है 2019 वर्ल्ड कप में मौका

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1615
| अक्टूबर 31 , 2018 , 15:17 IST

2015 वर्ल्ड कप से अब तक काफी कुछ बदल चुका है और अगले साल इंग्लैंड में होने वाले वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया भी बदली हुई है। पेसर भुवनेश्वर कुमार और युवा जसप्रीत बुमराह बेहतर कर रहे हैं लेकिन तीसरे तेज गेंदबाज की खोज अभी तक उतनी सफल नहीं लग रही है। शमी और उमेश वनडे में ज्यादा नहीं खेल रहे हैं तो वहीं शार्दुल ठाकुर, दीपक चाहर, बरिंदर सरां और सिद्धार्थ कौल भी उतने अनुभवी नहीं हैं।

Kh 1

पिछले विश्व कप में भारतीय टीम भले ही सेमीफाइनल में बाहर हो गई लेकिन अपने पेस अटैक से उसने सभी को प्रभावित किया। भारतीय टीम ने तब 7 मैचों में कुल 70 विकेट लिए थे। टीम में तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और उमेश यादव के साथ मोहित शर्मा मौजूद थे। उमेश ने 2015 वर्ल्ड कप में कुल 18 विकेट और शमी ने 17 विकेट हासिल किए।

इस बीच 20 साल के लेफ्ट आर्म पेसर खलील अहमद से उम्मीद की जा सकती है। उनके पास मौका है कि वह इंग्लैंड में होने वाले वर्ल्ड कप के लिए टिकट पा जाएं, खासतौर से वेस्ट इंडीज के खिलाफ चौथे वनडे में उनके प्रदर्शन को देखते हुए यह उम्मीद ज्यादा हो गई है। खलील ने 5 ओवर में केवल 13 रन दिए और 3 विकेट लिए।

राजस्थान के टोंक से आए लंबे कद के खलील ने एशिया कप में डेब्यू किया था। उन्होंने ब्रेबोर्न स्टेडियम में चौथे वनडे में मार्लोन सैमुअल्स, शिमरोन हेटमेयर और रोवमैन पॉवेल को पविलियन की राह दिखाई। भारत ने मेहमान विंडीज टीम को इस मैच में 153 रन पर ढेर कर 224 रन से बड़ी जीत दर्ज की।

Kh 2

विराट कोहली ने मैच के बाद खलील की तारीफ की। कैप्टन कोहली ने कहा, 'खलील एक शानदार प्रतिभा हैं। यदि पिच पर उनके लिए कुछ होता है तो वह जरूर अपना प्रभाव छोड़ते हैं। वह सही दिशा में गेंदबाजी करते हैं।' भुवनेश्वर, बुमराह और हार्दिक पंड्या के अलावा किसी और पेसर का पिछले 2 साल में वनडे में खास प्रदर्शन नहीं रहा है। पंड्या की फिटनेस चिंता का विषय है तो वहीं भुवनेश्वर के लिए नई गेंद से ऐसी परिस्थितियों में स्विंग हासिल करना आसान नहीं लग रहा है।

भुवनेश्वर और बुमराह को वेस्ट इंडीज के खिलाफ शुरुआती 2 मैचों के लिए आराम दिया गया था और उनकी जगह शमी को टीम में जगह मिली। वह एक साल बाद वनडे टीम में शामिल किए गए। उन्होंने गुवाहाटी वनडे में 2 और विशाखापत्तनम में 1 विकेट हासिल किया। हालांकि उन्हें तीसरे वनडे से फिर टीम से बाहर कर दिया। शमी के नाम 52 वनडे में कुल 94 विकेट हैं। खलील को यदि मौका मिलता है और वह अपनी इसी फॉर्म को बरकरार रखते हैं तो उनका इंग्लैंड जाना लगभग तय हो सकता है।

 

 


कमेंट करें