नेशनल

NRC पर बोले राजनाथ: प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी, किसी के साथ नहीं होगा भेदभाव

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1944
| अगस्त 3 , 2018 , 12:58 IST

असम के NRC मुद्दे पर मचे सियासी घामासान के बीच केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को राज्यसभा में जवाब दिया। गृह मंत्री ने कहा कि देश की सुरक्षा के लिए एनआरसी जरूरी है। उन्होंने कहा कि किसी भी परिस्थिति में परेशान करने वाला कदम नहीं उठाया जाएगा। सबको अपील करने का मौका मिलेगा।

राजनाथ सिंह ने कहा कि NRC प्रक्रिया पूरी तरह से पारदर्शी है। उन्‍होंने साफ किया कि इस मामले में जो लोग छूट गए हैं, उनके खिलाफ अभी कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी। उन्‍होंने कहा कि यह 40 लाख परिवार नहीं हैं, बल्कि ये व्‍यक्तियों की संख्या है। एनआरसी में कोई भेदभाव ना तो हुआ है और ना ही किया जाएगा।

राजनाथ सिंह ने कहा कि NRC देश की सुरक्षा के लिए जरूरी है और किसी भी देश की जिम्मेदारी बनती है कि वह अपने नागरिकों की वास्तविक संख्या के बारे में जानकारी रखे। राजनाथ सिंह ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी जब देश के प्रधानमंत्री थे, उस समय असम समझौते के जरिए 1985 में NRC की प्रक्रिया शुरू की गई और NRC को अपडेट करने का फैसला 2005 में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के समय लिया गया। उन्होंने कहा कि NRC पर सभी राजनीतिक दलों निजी प्रतिबद्धताओं से ऊपर उठकर सोचने की जरूरत है।

राजनाथ सिंह ने कहा कि एनआरसी को लेकर डर का माहौल पैदा किया जा रहा है जो कि गलत है। उन्होंने कहा, 'इस पर मैं कहना चाहूंगा कि किसी भी परिस्थिति में किसी के खिलाफ परेशान करने वाला कदम नहीं उठाया जाएगा।

आपको बता दें कि असम NRC का सबसे ज्यादा विरोध पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कर रही हैं। इसे लेकर पिछले कई दिनों तक संसद की कार्यवाही बाधित हुई। गुरुवार को टीएमसी नेताओं का एक शिष्टमंडल असम पहुंचा जिसे सिलचर हवाईअड्डे पर हिरासत में ले लिया गया।


कमेंट करें