नेशनल

गुरमीत राम रहीम की तबीयत बिगड़ी, लाया गया पीजीआई रोहतक अस्पताल

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1426
| सितंबर 10 , 2017 , 12:32 IST

रेप के आरोप में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की अचानक तबीयत ख़राब हो गई। जेल में बंद बाबा की बिगड़ी हुई तबियत को ध्यान में रखते हुए उन्हें जेल से 13 मिनट में पीजीआई अस्पताल लाया गया। बाबा को शनिवार दोपहर 3:43 पर पीजीआई के वार्ड नंबर 24 पहुंचाया गया। बाबा के साथ नौ वाहनों का काफिला मौजूद था। करीब 11 किलोमीटर की दूरी महज 13 मिनट में तय कर जेल में बंद ‘बाबा गुरमीत’ को पीजीआई पहुंचाया। 250 पैरामिलिट्री और पुलिस के जवान पीजीआई में तैनात किये गये। 

दरअसल बाबा की खराब तबियत के चलते डॉक्टरों की टीम जेल गई और बाद में बाबा को पीजीआई लाया गया। जेल प्रशासन ने पीजीआई को इस मॉक ड्रिल के लिए पहले ही सूचित कर दिया था। दोपहर होने के बाद डॉक्टरों की टीम को जेल में भेजा गया। यहां नौ वाहनों का काफिला सायरन देते हुए पीजीआई की ओर निकल पड़ा। आपको बता दे कि करीब 11 किलोमीटर की दूरी एंबुलेंस समेत पूरे काफिले ने 13 मिनट में पूरी की।

Ram-rahim-sad

यह काफिला 3:30 बजे निकला और 3:43 तक अस्पताल पहुंच गया। बाबा बने पुलिस के ही एक कर्मचारी को मुंह पर कपड़ा डालकर कमरा नंबर 105 तक ले जाया गया। मरीज के कमरे में जाते ही पैरामिलिट्री हथियारबंद जवानों ने वार्ड को पूरी तरह से सील कर दिया और  मरीज को सुरक्षित पहुंचाना ही मॉक ड्रिल का मकसद था।

मॉक ड्रिल की तैयारियां सुबह से चल रही थी और मॉक ड्रिल में करीब एक घंटे का समय लगा। डॉक्टरों से पुलिस अधिकारियों ने बात करी  और पूरे वार्ड को अन्य विभाग से पूरी तरह अलग करने के लिए मरीजों के लिए दूसरा रास्ता शुरू करने को बोला और डॉक्टरों ने इस पर सहमति दिखाई। इसी के साथ इलाके में किसी बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया गया।

Fortis-Memorial-Research-Institute-Gurgaon-Gurgaon-60ba65

दुष्कर्मी बाबा को कमरा नंबर 105 में रखा गया

प्रशासन ने सुरक्षा इलाज की दृष्टि से इस वार्ड और कमरे को खास बताया है। इस कमरे में मरीज के लिए बिस्तर, अटैच बाथरूम के अलावा उसके सहायक के लिए भी अलग कमरा बिस्तर उपलब्ध है। इस कमरे में 24 घंटे नर्स तैनात रहेगी और जरुरत पढ़ने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क किया जा सकेगा। यह कमरा सबसे सुरक्षित कमरा हैं।गुरमीत को यह कमरा इसलिए दिया गया जिससे दूसरे मरीजों को परेशानी ना हो - डॉ.राकेश कुमार गुप्ता, निदेशक, पीजीआई।


कमेंट करें