बिज़नेस

राफेल डील विवाद पर रिलायंस डिफेंस ने कहा- कॉन्ट्रैक्ट डसॉल्ट से मिला, रक्षा मंत्रालय से नहीं

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2628
| अगस्त 12 , 2018 , 17:07 IST

राफेल एयरक्राफ्ट डील में घोटाले का आरोप लगाकर विपक्ष सरकार को घेरने में जुटा है। तो एक तरफ इस राजनीतिक घमासान में फंसी अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस ने कहा है कि उसे कॉन्ट्रैक्ट डसॉल्ट से मिला, रक्षा मंत्रालय से नहीं। कंपनी की ओर से यह भी कहा गया है कि 'बेबुनियाद और गलत' आरोप जानबूझकर 'लोगों को गुमराह करने और मुद्दे को भटकाने' के लिए लगाए जा रहे हैं।

अनुभव की कमी और सरकारी कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) को नजरअंदाज किए जाने जैसे सभी मुद्दों पर जवाब देते हुए समूह की ओर से कहा गया है कि 36 राफेल फाइटर जेट्स सप्लाई करने वाली कंपनी डसॉल्ट ने रिलायंस डिफेंस को 'ऑफसेट' या एक्सपोर्ट काम के लिए चुना। विदेशी वेंडर के लिए भारतीय पार्टनर चुनने में रक्षा मंत्रालय की कोई भूमिका नहीं है।

Anil-ambani-1510745497

रिलायंस डिफेंस लिमिटेड के सीईओ राजेश धींगरा का कहना है कि दो सरकारों की बीच हुई डील के मुताबिक सभी 36 एयरक्राफ्ट्स की आपूर्ति 'फ्लाई-वे' कंडीशन में होनी है। इसका मतलब यह है कि 'उन्हें फ्रांस से डसॉल्ट के द्वारा निर्यात किया जाएगा' और 'HAL' या अन्य कोई भी प्रॉडक्शन एजेंसी नहीं हो सकती, क्योंकि एयरक्राफ्ट का प्रॉडक्शन भारत में नहीं होना है।

उन्होंने आगे कहा कि 126 मीडियम मल्टि रोल कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (MMRCA) प्रोग्राम में HAL को प्रॉडक्शन एजेंसी चुना गया था, लेकिन यह कभी कॉन्ट्रैक्ट स्टेज पर नहीं पहुंचा।

राजेश धींगरा ने पीटीआई को फोन पर बातचीत के दौरान कहा, 'रिलायंस डिफेंस या रिलायंस समूह की किसी कंपनी को आज तक 36 राफेल एयरक्राफ्ट से संबंधित कोई कॉन्ट्रैक्ट रक्षा मंत्रालय से नहीं मिला है। आरोप पूरी तरह बेबुनियाद और गलत हैं।'

660229-rafaledeal-031318

आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी राफेल सौदे में घोटाले का आरोप लगा रही है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया है कि रिलायंस को फायदा पहुंचाने के लिए HAL को दरकिनार किया गया।

वही आपको बता दें कि अरूण शौरी और यशंवत सिन्हा के आरोपों पर बीजेपी नेता अक्सर कहते रहे हैं कि 2014 में कंद्र की सत्ता में आने के बाद से दोनों नेता सरकार में कोई पद या अहमियत नहीं मिलने की वजह से आहत है। यहीं वजह है कि वो इस तरह के आरोप लगा रहे है। अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे इन दोनों नेताओं ने आरोप लगाया था कि राफेल डील बोफोर्स से बड़ा रक्षा घोटाला है।


कमेंट करें