खेल

Ind vs Nz : ...तो इस तरह से दूसरे टी-20 में टीम इंडिया दे सकती है न्यूजीलैंड को मात

आशुतोष कुमार राय, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1766
| फरवरी 7 , 2019 , 13:23 IST

भारतीय क्रिकेट टीम को पहले टी-20 मुकाबले में मिली हार को फैन्स पचा नहीं पा रहे हैं। कोई एक तरफ कोहली का न होना बता रहा है तो कोई भारतीय टीम की फिल्डिंग पर भी सवाल उठा रहा है।

आइए जानते हैं... भारत की बड़ी हार की प्रमुख वजहें क्या-क्या रहीं और टीम इंडिया क्या करे कि उसे अगले मैंचों में मिल सके शानदार जीत...

7

3 मैचों की टी-20 सीरीज का दूसरा मैच 8 फरवरी को ऑकलैंड के इडन पार्क मैदान पर खेला जाएगा, जो टीम इंडिया के लिए कतई आसान नहीं होगा। इसके कुछ कारण हैं पहला और सबसे बड़ा कारण यह है कि भारतीय टीम जब दुसरा टी-20 मुकाबला खेलने उतरेगी तो उसके उपर इस मैच को किसी तरह से जीतने का दबाव रहेगा।

5

बता दें कि भारत ने इस मैदान पर अपना आखिरी मैच 14 मार्च, 2015 को खेला था, जो जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे वर्ल्ड के दौरान खेला गया था। मैदान के बारे में भारतीय खिलाड़ी अंजान होंगे।

6

रोहित और धवन को संभालना होगा रन बनाने का जिम्मा-:

4

विराट कोहली की गैरमौजूदगी में टीम की कप्तानी कर रहे रोहित शर्मा को रन बनाने का जिम्मा संभालना होगा। वह न्यू जीलैंड के खिलाफ पिछले 3 मैचों (दो वनडे भी शामिल) से दहाई का आंकड़ा नहीं छू पाए हैं। दूसरी ओर शिखर धवन अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में नहीं बदल पा रहे हैं। टीम इंडिया के लिए बड़ा स्कोर बनाना या फिर बड़ा लक्ष्य पाना तभी संभव होगा, जब ये दोनों बल्लेबाज टीम को अच्छी शुरुआत दे दें।

फिल्डिंग में और काम करने की जरूरत-:

मैच में कोलिन डि ग्रैंडहोम का शानदार कैच मोहम्मद सिराज ने लपका तो तेज तर्रार पारी खेलने वाले सीफर्ट के दो मैच ड्रॉप भी हुए। यही भारतीय टीम को महंगा पड़ा। सीफर्ट को पहला जीवनदान क्रुणाल पंड्या के ओवर में मिला जब विकेट के पीछे महेंद्र सिंह धोनी ने उनका कैच छोड़ा। इसके बाद दिनेश कार्तिक ने उनका कैच छोड़ दिया। धोनी ने 5वें ओवर में कैच छोड़ा था। उस वक्त सीफर्ट 17 रन के निजी स्कोर पर खेल रहे थे।

3

यही कैच बाद में भारत को भारी पड़ा। टीम इंडिया की फिटनेस जोरदार है। उसे फिल्डिंग में और काम करने की जरूरत है। इस तरह के कैच छूटना वर्ल्ड कप को देखते हुए अच्छा संकेत नहीं है।

बनानी होंगी साझेदारी-:

रोहित ने माना भी कि बड़ी साझेदारी नहीं होना भी हार का कारण बना। उन्होंने कहा था कि यह एक मुश्किल मैच था। हम तीनों विभागों में उनसे कम साबित हुए। हम जानते थे कि 200 के ऊपर का लक्ष्य आसान नहीं रहने वाला है।

2

हम लगातार विकेट खोते रहे, इससे हम धीरे-धीरे बाहर होते चले गए।' उन्होंने कहा था, 'हम पहले भी 200 या इससे ऊपर के लक्ष्य को हासिल कर चुके हैं, लेकिन जब बड़े लक्ष्य का पीछा करते हुए आप अच्छी साझे नहीं करते हैं तो यह हमेशा से मुश्किल होता है। हमें एक बड़ी साझेदारी की जरूरत थी जिसमें हम असफल रहे।'

गेंदबाजी को ट्रैक पर लाने की जरुरत-:

पहले मैच को अगर देखा जाए तो चौंकाने वाला आंकड़ा निकलकर आता है। दुनिया के सबसे किफायती गेंदबाज माने जाने वाले भुवनेश्वर कुमार तक जमकर रन लुटा रहे हैं। उन्होंने 4 ओवर में 47 रन खर्च किए और एक विकेट लिया। भारतीय गेंदबाजी की किस तरह धज्जियां उड़ीं इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पहले 4 ओवरों में कीवी ओपनिंग जोड़ी ने 44 रन बना लिए थे और 8.2 ओवर में 86 रन।

1

युवा टिम सीफर्ट और कोलिन मुनरो के बाद केन विलियमसन ने जमकर रन बनाए। फिलहाल आराम कर रहे बुमराह की गैरमौजूदगी में भुवी को अपना काम करना होगा, तभी टीम इंडिया की जीत के ट्रैक पर वापसी संभव हो सकती है।


कमेंट करें