नेशनल

सबरीमाला दर्शन के लिए खुले कपाट, भारी विरोध के चलते लौटने पर विवश हुईं तृप्ति देसाई

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2020
| नवंबर 16 , 2018 , 19:37 IST

केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर के कपाट शुक्रवार शाम 5 बजे दर्शन के लिए खुल गए। हिंदूवादी प्रदर्शनकारियों के भारी विरोध के बीच केरल के चर्चित सबरीमाला मंदिर में दर्शन के लिए पहुंचीं सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई और छह अन्य महिलाओं ने हवाईअड्डे पर से पुणे लौटने का फैसला किया है। तृप्ति और उनके साथ आया समूह शुक्रवार तड़के लगभग 4 बजकर 45 मिनट पर यहां पहुंचा था। उनके आने के बाद बीजेपी और संघ परिवार के कार्यकर्ता हवाईअड्डे के बाहर प्रदर्शन करने लगे, इसलिए वह हवाईअड्डे से बाहर नहीं निकल पाईं।

बता दें कि जब तृप्ति यहां पहुंचीं, तब यहां केवल 100 प्रदर्शनकारी थे लेकिन बाद में यह संख्या बढ़कर हजारों में पहुंच गई और प्रदर्शनकारी हवाईअड्डे के अंदर और बाहर सभी प्रवेश और बाहर निकलने वाले गेट पर डेरा जमा दिया। बीजेपी के वरिष्ठ नेता भी हवाईअड्डे पर पहुंच गए। बढ़ते विरोध को देखते पुलिस ने उन्‍हें जाने के लिए कहा। उधर, बीजेपी की प्रवक्ता शोभा सुरेंद्रन ने भी कहा, ‘हमें उन्हें यहां से जाने के लिए कहना होगा, क्योंकि हम उन्हें यहां से बाहर जाने की इजाजत नहीं देंगे। तृप्ति देसाई को हमारे मुख्यमंत्री के जैसे नास्तिकों का समर्थन हासिल है जो यह देखने के लिए प्रतिबद्ध हैं कि एक महिला मंदिर में प्रवेश करे।

पुलिस की अपील के बावजूद तृप्ति ने कहा था कि वह भगवान अयप्पा मंदिर में प्रवेश किए बिना नहीं लौटेंगी। हालांकि देरशाम उन्‍होंने पुणे जाने का फैसला किया। हवाईअड्डे पर पहुंचने से पहले तृप्ति देसाई ने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से सुरक्षा मुहैया कराने का आग्रह किया था। इस बीच मंदिर के प्रबंधन का काम देखने वाले त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड ने फैसला किया है कि वह भगवान अयप्पा मंदिर में सभी आयुवर्ग की महिलाओं को प्रवेश की इजाजत देने वाले उच्चतम न्यायालय के फैसले को लागू करने के लिये और वक्त लेने की खातिर याचिका दायर करेगा।


कमेंट करें