नेशनल

शराबकांड: 109 लोगों की मौत के बाद प्रशासन का सख्त रुख, 175 आरोपियों को किया अरेस्ट

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2017
| फरवरी 10 , 2019 , 10:54 IST

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के लिए ये हफ्ता बेहद ही मनहूस साबित हो रहा है। यहां पर जहरीली शराब मौत का कहर बनकर टूटी है।  मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। मेरठ, सहारनपुर, रुडकी और कुशीनगर में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की कुल संख्या लगभग 100 पार कर गई है।  करीब चार दर्जन से अधिक लोग अस्पताल में भर्ती हैं। इसके अलावा कई लोगों की हालत मेडिकल अस्पताल मेरठ में नाजुक बनी हुई है।

मौत की संख्या 100 के पार जाने पर योगी सरकार की सख्ती के बाद प्रशासन ने अवैध शराब बनाने और बेचने वालों के खिलाफ 15 दिन का अभियान शुरू किया है। सहारनपुर में अब तक 39 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है जबकि 35 मुकदमें दर्ज किए गए हैं। सहारनपुर में अवैध शराब की भठ्ठियों से 36,100 किलो लहन (कच्चा पदार्थ), 250 लीटर कच्ची शराब और 60 लीटर अंग्रेजी शराब बरामद हुई है. अकेले सहारनपुर में 16 गांव के लोग इस जहरीली शराब की चपेट में आए थे।

पुलिसकर्मी हुए सस्पेंड

प्रशासन की लापरवाही के लिए सरकार ने नागल थाना प्रभारी सहित दस पुलिसकर्मी और आबकरी विभाग के तीन इंस्पेक्टर व दो कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया है। नागल थाना प्रभारी हरीश राजपूत, एसआई अश्वनी कुमार, अय्यूब आली और प्रमोद नैन के अलावा कांस्टेबल बाबूराम, मोनी राठी, विजय तोमर, संजय त्यागी, नवीन और सौरव को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं आबकारी विभाग के सिपाही अरविंद और नीरज भी निलंबित किए गए हैं।

पूरे जिले में चल रही छापेमारी और खोजबीन

शुक्रवार शाम और देर रात यूपी के मुख्य सचिव और बाद में डीजीपी ने सभी जिलों के जिलाधिकारियों और पुलिस कप्तानों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए निर्देश दिए कि जहरीली शराब के मामले में पूरे जिले में छापेमारी और खोजबीन की जाए। यह अभियान आगले पंद्रह दिनों तक चलेगा जिसमें धरपकड़ के साथ-साथ अवैध शराब की भट्टियों पर छापेमारी की जाएगी। सरकार की तरफ से सात निर्देश दिए गए हैं कि जिस जिले में लापरवाही होगी वहां के पुलिस कप्तान और जिलाधिकारी को इसका खामियाजा भुगतना होगा।

अब भी थमने का नाम नहीं लेरी शराब की तस्करी

इतनी मौतें होने के बाद भी अभी शराब की तस्करी का धंधा थमने का नाम नहीं ले रहा है। उधर कुशीनगर में पुलिस और आबकारी की संयुक्त टीम ने छापा मारकर कप्तानगंज थाना क्षेत्र के एनएच 28 पर ढाबे पर खड़ी ट्रेक में भूसे में छिपाकर ले जाई जा रही शराब की 1600 पेटियां बरामद की हैं। बरामद अवैध शराब की कीमत लगभग 80 लाख रुपये से अधिक बताई जा रही है। कप्तानगंज पुलिस ने आबकारी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है और फिलहाल शराब तस्कर फरार बताया जा रहा है।

शराब की तस्करी का सबसे बड़ा बड़ा नेटवर्क उत्तर प्रदेश में

इस घटना के सामने आने के बाद ऐसा लग रहा है कि जहरीली शराब बनाने वालों का नेटवर्क पूर्वी उत्तर प्रदेश से लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश तक फैला हुआ है। यह सब कुछ पुलिस की नाक के नीचे हो रहा है। जहरीली शराब जिस जगह बनाई जाती है उसकी गंध दूर-दूर तक जाती है। जब राज्य में अखिलेश यादव की सरकार थी तब भी उन्नाव और लखनऊ में जहरीली शराब पीने से 33 लोगों की मौत हो गई थी। उसके बाद सरकार और प्रशासन की ओर से बड़े-बड़े दावे किए गए थे और आदेश दिया गया था कि जिस इलाके में जहरीली शराब पाई गई वहां के पुलिस थाने के अधिकारी जिम्मेदार होंगे।


कमेंट करें