बिज़नेस

जानिए ऐसे 6 नियम जो 1 OCT से बदल जाएंगे, जिसका असर आपकी जेब पर पड़ेगा

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
1529
| सितंबर 28 , 2017 , 07:39 IST

1 अक्टूबर, 2017 से आम नागरिक को कई बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, जीएसटी, टेलिकॉम सेक्‍टर और टोल प्‍लाजा से जुड़े नियमों में अगले महीने से बदलाव होने जा रहे हैं।

आइए एक नजर डालते हैं नए नियमों पर, जिसका सीधा असर आपकी जेब पर पड़ने वाला है।

- 1 अक्टूबर से कोई भी दुकानदार पुराने एमआरपी पर सामान नहीं बेच सकेगा। 1 तारीख से सभी को नई एमआरपी के साथ सामान बेचना होगा। ऐसा ना करने पर दुकानदार के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। दरअसल, केंद्र सरकार ने 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद कारोबारियों को 30 सितंबर तक पुराने सामान पर नई एमआरपी का स्टिकर लगाकर बेचने की सुविधा दी थी। अब 1 अक्टूबर से नई एमआरपी का स्‍टीकर लगाकर सामान बेचने वालों पर सरकार कार्रवाई कर सकती है।

Sbi1

- एसबीआई ने मेट्रो और शहरी भाग में बचत खातों पर मिनिमम अकाउंट बैलेंस के नियमों में बदलाव किया है। यानि अह 1 अक्टूबर से मिनिमम अकाउंट बैलेंस लिमिट 5000 रुपए से घटकर 3000 हो जाएगी।

- मिनिमम बैलेंस चार्ज में भी 20% से 50% तक कटौती की गई है।

- खाता बंद करने के लिए कोई चार्ज नहीं लगेगा। ये सुविधा खाता खोलने के 14 दिन तक और 1 साल बाद खाता बंद करने पर ही मिलेगी। 14 दिन के बाद और 1 साल से पहले बंद करने पर 500 रुपये प्लस जीएसटी लगेगा।

-नाबालिगों, पेंशनर्स और सब्सिडी के लिए खोले गए अकाउंट्स पर मिनिमम बैलेंस का चार्ज नहीं लिया जाएगा।

-1 अक्टूबर से SBI मर्ज हुए बैंकों के चेक नहीं लेगा

- 1 अक्‍टूबर से नेशनल हाईवे पर बने सभी टोल प्‍लाजा पर फास्‍टैग लगी गाड़ियां बिना रुके गुजर सकेंगी। केंद्र सरकार ने पिछले साल फास्‍टैग लॉन्‍च किया था।

- फास्‍टैग सिस्टम के दौरान आपकी गाड़ी के शीशे पर एक टैग लगा होगा, जिसे टोल प्‍लाजा पर लगी डिवाइस रीड करेगी और टोल टैक्स टोल प्लाजा के अकाउंट में ट्रांसफर हो जाएगा।

-फास्‍टैग को रिचार्ज कराना भी आसान है। इसे ऑनलाइन रीचार्ज किया जा सकता है। कई बैंकों को इसके लिए ऑथराइज्ड किया गया है।

MobilE

-टेलिकॉम रेग्युलेटर ट्राई ने 1 अक्टूबर से इंटरकनेक्‍शन यूजेस चार्ज (IUC) में 50% से ज्यादा कटौती करने का फैसला किया है।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें