नेशनल

चाइल्ड पॉर्नोग्राफी पर SC का केंद्र को आदेश, शिकायत के लिए जारी करे हॉटलाइन नंबर

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
845
| अक्टूबर 27 , 2017 , 09:33 IST

चाइल्ड पॉर्नोग्रफी को रोकने में केंद्र सरकार पूरी तरह से असफल रही है इसीलिए अब सुप्रीम कोर्ट ने चाइल्ड पॉर्नोग्रफी और रेप विडियोज के प्रसार को रोकने के लिए केंद्र सरकार से ऑनलाइन पोर्टल बनाने और हॉटलाइन नंबर जारी करने को कहा है ताकि कोई भी व्यक्ति अपना नाम बताए बिना इन विडियोज को अपलोड करने वाले लोगों की शिकायत कर सके। जस्टिस मदन बी लोकुर और यूयू ललित की बेंच ने कोर्ट द्वारा नियुक्त समिति के सुझाव भी स्वीकार किए।

इस समिति में गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, याहू और फेसबुक के टॉप टेक्नोक्रैट्स के साथ ही केंद्र का भी प्रतिनिधित्व था। कोर्ट ने केंद्र को निर्देश दिया है कि समिति के सुझाव को जल्द से जल्द लागू किया जाए। इलेक्ट्रॉनिक्स ऐंड इन्फर्मेशन टेक्नॉलजी मिनिस्ट्री के अतिरिक्त सचिव के नेतृत्व में इस समिति ने सर्वसम्मति से 11 सुझाव दिए ताकि रेप और चाइल्ड पॉर्नोग्रफी के विडियोज को इंटरनेट पर अपलोड और शेयर होने से रोका जा सके।

समिति ने सुझाव दिया है कि केंद्र को ऑनलाइन सर्च इंजन और सिविल सोसायटी ऑर्गनाइजेशन्स के साथ मिलकर काम करना चाहिए और कीवर्ड्स खोजकर उन्हें ब्लॉक करना चाहिए ताकि लोग आपत्तिजनक विडियोज सर्च ही न कर सकें। यह भी सुझाव दिया गया है कि सभी भारतीय भाषाओं के कीवर्ड्स का पता लगाना चाहिए।

Maxresdefault

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को इन सुझावों को लागू करने के संबंध में 11 दिसंबर को स्टेटस रिपोर्ट दायर करने को भी कहा है। बता दें कि केंद्र और इंटरनेट दिग्गजों के चाइल्ड पॉर्नोग्रफी विडियोज को अपलोड होने से रोकने के मामले में हाथ खड़े करने के बाद कोर्ट ने यह समिति बनाई थी।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें