नेशनल

मंदसौर: 7 साल की बच्ची से निर्भया जैसी दरिंदगी, आंत काटकर बचाई गई जान

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2055
| जून 29 , 2018 , 09:18 IST

मध्य प्रदेश के मंदसौर में स्कूल की छुट्‌टी के बाद जिस 7 साल की बच्ची को किडनैप कर रेप किया गया उसका ऑपरेशन इंदौर के एमवाय अस्पताल में हुआ। कहा जा रहा है बच्ची बीच-बीच में बस दर्द से कराहती हुई आंख खोलकर पास बैठे पिता से इतना ही कह पा रही है कि वो मेरा हाथ पकड़कर ले गए थे। मासून के साथ इतनी हैवानियत हुई है कि रूह कांप जाएगी। पीड़ित बच्ची के चेहरे पर दांत के निशान हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बच्ची के शरीर पर जगह-जगह दरिंदे के दांत के निशान हैं। नाक पर जख्म इतने गहरे हैं कि डॉक्टरों को नेसोगेस्ट्रिक ट्यूब लगानी पड़ी। बच्ची का प्राइवेट पार्ट लहूलुहान है। रात में ही डॉक्टरों को उसका ऑपरेशन करना पड़ा। आंतों को काटकर बाहर एक रास्ता बनाकर प्राइवेट पार्ट्स को ऑपरेट किया गया।

बच्ची के खून भी चढ़ाया गया है। हालत अभी स्थिर है। थोड़ा-थोड़ा पानी पीने की इजाजत दी है। बच्ची अभी भी सदमे में है, इससे बाहर निकलने में उसे वक्त लगेगा।

देर रात इंदौर में हुआ आॅपरेशन, बच्ची की हालत स्थिर-

सरस्वती शिशु मंदिर की केशवनगर शाखा से मंगलवार शाम को लापता हुई सात साल की बालिका 18 घंटे बाद बुधवार को सुबह स्कूल से करीब 500 मीटर दूर नाले के पास झाड़ियों में लहूलुहान मिली थी। ज्यादती कर बालिका के शरीर पर धारदार हथियार से पांच वार किए और मरने के लिए झाड़ियों में फेंक दिया। गंभीर घायल बालिका का जिला अस्पताल में पांच डॉक्टरों की पैनल ने मेडिकल किया, जिसमें उसके साथ ज्यादती होने की पुष्टि हुई। प्राथमिक उपचार के बाद मासूम को इंदौर रैफर किया है। जहां देर रात एमवाय अस्पताल में डॉक्टरों की टीम ने पेरिनियल इंजुरी का ऑपरेशन किया। डॉक्टरों का कहना है बच्ची सदमे में है और उसकी हालत स्थिर बनी हुई है। पुलिस के अनुसार हालत गंभीर होने से फिलहाल पीड़ित बालिका के बयान दर्ज नहीं हो सके हैं। बयान होने के बाद आगे की कार्यवाही होगी। मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनावई की गुजारिश की जाएगी। आरोपी के खिलाफ सिटी कोतवाली में 1 आर्म्स एक्ट व मारपीट के मामले में केस दर्ज हैं।

उधर, बच्ची से रेप के विरोध में गुरुवार को मंदसौर बंद रहा। लोगों ने अपनी दुकानें बंद रखी। भारी आक्रोश के चलते पुलिस आरोपी इरफान खान को कोर्ट में पेश नहीं कर पाई।

इसके बाद कोर्ट खुद कंट्रोल रूम पहुंची, जहां इरफान को 2 जुलाई तक पुलिस रिमांड में रखे जाने का फैसला हुआ। वहीं, पुलिस का कहना है कि उन्होंने जांच के लिए अफसरों की 15 सदस्यीय टीम बनाई गई है। 20 दिन में चालान पेश कर आरोपी को फांसी की सजा दिलाने की बात कही।

एक अंकल आए, लड्डू दिया, जंगल में ले गए फिर गंदा काम किया-

दरिंदगी का शिकार हुई मासूम के साथ दो लोगों ने ज्यादती की। यह बात खुद बालिका ने इलाज के लिए मंदसौर से इंदौर ले जाते समय एम्बुलेंस में अपनी मां को बताई। रास्ते में उसकी मां ने बात करने की कोशिश की तो बच्ची ने बड़ी मुश्किल से घटना के बारे में बताया। उसने मां को बताया कि वह स्कूल के बाहर दादी का इंतजार कर रही थी। तभी एक अंकल आए। उन्होंने मुझे एक लड्‌डू खाने को दिया। लड्‌डू खाने के बाद वे मुझे जंगल ले गए। जहां एक और अंकल थे। उन्होंने मेरी गर्दन पर कटर (धारदार हथियार) रख दिया, धमकाया भी। इसके बाद दोनों अंकल ने मेरे साथ गंदा काम किया।

सीसीटीवी फुटेज से पकड़ाया आरोपी-

बच्ची के स्कूल से लापता होने के बाद पुलिस ने उस क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज देखें। इसमे बच्ची आरोपी के पीछे जाती दिखाई दे रही है। इस फुटेज को निकाल कर उससे आरोपी की फोटो निकाली। बताया जाता है कि आरोपी जूते से पकड़ में आया। जो जूते उसने पहने हुए थे। वही जूते सीसीटीवी में बच्ची के आगे जा रहे युवक ने भी पहने हुए थे।


कमेंट करें