इंटरनेशनल

तहरीक-ए-तालिबान ने करवाई थी बेनजीर भुट्टो की हत्या, 10 साल बाद हुआ खुलासा

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1114
| जनवरी 16 , 2018 , 19:59 IST

आतंकी संगठन तालिबान ने बेनजीर भुट्टो की हत्या की जिम्मेदारी ली है। बता दें एक उर्दू किताब में इस बात का दावा किया गया है कि पाकिस्तान में अमेरिका की सहायता से पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की हत्या की गई है। बेनजीर भुट्टो मुजाहिद्दी-ए-इस्लाम के खिलाफ एक्शन लेना चाह रही थी जिसके कारण उनकी हत्या कर दी गई। 

जानकारी के लिए बता दें तालिबान के इस दावे का खुलासा 'इंकलाब महसूद दक्षिणी वजीरिस्तान: ब्रिटिश राज से अमेरिकी साम्राज्यवाद तक' में किया गया। इस किताब को लिखने वाले तालिबान प्रमुख हैं। बता दें इससे पहले पाकिस्तान के पूर्व आर्मी चीफ और तानाशाह जनरल परवेज मुशर्रफ पर बेनजीर की हत्या कराने का आरोप मढ़ा गया था।

Benazir-kNVE--621x414@LiveMint

पाकिस्तान में तालिबान के फाउंडर बैयतुल्लाह मेहसूद ने कहा कि उन्हें सूचना मिली थी कि अमेरिका के सहारे भूट्टो सत्ता में आ रही है। अगर ऐसा हुआ तो वह मुजाहिद्दी-ए-इस्लाम को खत्म करने के लिए जंग लड़ेगी।  बता दें ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी आतंकी संगठन ने इस बात को स्वीकार किया है कि उन्होंने ही बेनजीर भुट्टो की हत्या की थी।

जानकारी के लिए बता दें लियाक़त बाग़ में बेनजीर भुट्टो की हत्या हुई थी। यह वही जगह है जहाँ पर पाकिस्तान के प्रथम प्रधानमंत्री लियाक़त अली खान की भी हत्या की गई थी।

16-1516081845-ap2-4-2017-000008b

इतना ही नहीं इस किताब में यह दावा भी किया है कि बिलाल सईद और इकरामुल्लाह ने दिसंबर 2007 में भुट्टो की रैली में आत्मघाती हमले को अजांम दिया था। इतना ही नहीं बेनजीर भुट्टो के मौत से दो महीने पहले भी हुई थी हत्या की कोशिश। बता दें इन सभी बातों को 558 पन्नों वाली किताब में कई तालिबानी नेताओं की तस्वीरों के साथ छापी गई है।

O-BENAZIR-BHUTTO-RALLY-facebook

इस किताब में ऐसा भी दावा किया गया है कि बिलाल ने सबसे पहले भुट्टो की गर्दन पर गोलियां चलाई और फिर उसने अपने जैकेट में लगे बम से धमाका कर खुद को भी उड़ा दिया। किताब में इस बात का भी दावा किया गया है कि अक्टूबर 2007 में भुट्टो को निशाना बनाया गया था लेकिन इस हमले में भुट्टो तो बच गई। बता दें इस हमले में भुट्टो तो बच गई थी लेकिन 140 लोगों की मौत हो गई थी।

साथ ही किताब में ऐसा भी लिखा गया है कि पाकिस्तान सरकार ने भुट्टो की सुरक्षा नहीं बढ़ाई, जिसके कारण दिसंबर 2007 में भुट्टो को निशाना बनाने में खासा आसानी हुई थी और हत्या कर दी गई।


कमेंट करें