बिज़नेस

Black Friday: Sensex ने अचानक 1500 अंकों का लगाया गोता, लेकिन जल्द ही रिकवरी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2142
| सितंबर 21 , 2018 , 14:34 IST

शेयर बाजार में शुक्रवार को उस समय हड़कंप मच गया, जब सेंसेक्स ने अचानक 1500 पॉइंटस का गोता लगा दिया। एक और 'ब्लैक प्राइडे' की आशंका ने निवेशकों की धड़कनें थाम दीं। राहत की बात यह रही कि बाजार जितनी तेजी से गिरा, उतनी ही तेजी से उसने रिकवरी भी कर डाली। लेकिन इन कुछ पलों ने बाजार में अफरातफरी जरूर मचा दी।

शुक्रवार को हफ्ते के आखिरी करोबारी दिन सेंसेक्स और निफ्टी अच्छी बढ़त के साथ खुले। शुरुआती कारोबार के दौरान तेजी देखी गई। लेकिन दोपहर में अचानक सेंसेक्स ने गोता लगा दिया। एक समय सेंसेक्स करीब 1,500 अंक नीचे गिर गया था, जो नोटबंदी के बाद से सबसे बड़ी गिरावट थी। नैशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 11,000 के आंकड़े से करीब साढ़े तीन सौ पॉइंट नीचे पहुंच गया। यह गिरावट कुछ ही पलों के लिए रही। जल्द ही बाजार ने तेजी से रिकवरी कर ली।

गिरावट की वजह फिलहाल किसी को समझ नहीं आ रही है। लेकिन इस गिरावट में सबसे ज्यादा बैंकिंग कंपनियां और हाउजिंग फाइनैंस कंपनियां पिटी हैं। फिलहाल एक्सपर्ट्स का कहना है कि शेयरधारकों को घबराने की जरूरत नहीं है।

बाजार की गिरावट की वजह से DHFL के शेयर करीब 50 प्रतिशत और यस बैंक के शेयर करीब 30 प्रतिशत तक नीचे लुढ़क गए। यस बैंक के सीईओ राणा कपूर के कार्यकाल को समय से पहले खत्म करने के आरबीआई के फैसले का बैंक के शेयरों पर काफी असर पड़ा है। कपूर 31 जनवरी 2019 को रिटायर होने वाले थे, लेकिन आरबीआई ने उनके 3 साल के कार्यकाल को पूरा करने से रोक दिया है। केंद्रीय बैंक ने इस कार्रवाई से बैंकिंग सेक्टर के मैनेजमेंट से लेकर केंद्र सरकार तक को कड़ा संदेश दिया है। शुक्रवार को यस बैंक के शेयरों में करीब एक तिहाई तक की गिरावट देखने को मिल रही है, जिससे बैंक के मार्केट वैल्यू में एक झटके में 3 अरब डॉलर (करीब 21,700 करोड़ रुपये) की कमी आ चुकी है।

बता दें कि शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में बाजार हरे निशान के ऊपर खुला था। इसमें बीएसई के 30 कंपनियों के शेयर पर आधारित सेंसेक्स 305.88 अंक यानी 0.82% के सुधार के साथ 37,427.10 अंक पर खुला था। इसी तरह नैशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 84.15 अंक यानी 0.75% की बढ़त के साथ 11,318.50 अंक पर था।


कमेंट करें