राजनीति

शिवपाल यादव ने बनाया अपना नया मोर्चा, कहा- जल्द मुलायम भी जुड़ेंगे

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1684
| अगस्त 29 , 2018 , 14:42 IST

समाजवादी पार्टी से किनारा होने के बाद आखिरकार शिवपाल यादव ने अपनी नई पार्टी का गठन कर लिया। शिवपाल यादव ने बुधवार को नई पार्टी के नाम (समाजवादी सेक्युलर मोर्चा )की घोषणा की। उन्होने बताया कि सेक्युलर मोर्चे के तहत सपा में उपेक्षित नेताओं और अन्य छोटे दलों को जोड़ने का काम किया जाएगा। 

जानने वाली बात यह है कि अभी तक शिवपाल यादव ने समाजवादी पार्टी को अपना इस्तीफा नहीं सौंपा है। उन्होंने साफ किया कि वे समाजवादी पार्टी को नहीं छोड़ रहे हैं। शिवपाल यादव ने बताया है कि समाजवादी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव भी समाजवादी सेक्युलर मोर्चे से जुड़ेंगे।

शिवपाल सिंह ने कहा कि सपा में अपनी इज्जत न होने से मैं आहत हूं। मुझे किसी भी मीटिंग में नहीं बुलाया जाता था। उन्होंने ये भी कहा कि उस पार्टी में अब नेताजी का भी सम्मान नहीं किया जाता है। इससे मैं बहुत दुखी हूं।

मालूम हो कि मंगलवार को सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव और पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव के बीच काफी देर गुफ्तगू हुई थी। सूत्रों के मुताबिक दोनों के बीच सेक्युलर मोर्चे को लेकर अहम बातचीत हुई थी। इससे पहले लोहिया ट्रस्ट की बैठक में सोमवार को ही मुलायम-शिवपाल ने ट्रस्ट के कार्यों की गहन समीक्षा और आगामी लोकसभा चुनाव पर चर्चा की थी। इसके अगले ही दिन दोनों एक साथ फिर बैठे। इस दौरान एक शिवपाल समर्थक नेता की ओर से गठित सेक्युलर मोर्चे को लेकर रणनीति बनाई गई।

बीजेपी की सहयोगी दल सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने भी मंगलवार शाम को शिवपाल से मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात पर शिवपाल ने कहा कि सभी छोटे दलों को इस मोर्चे से जोड़ने की कोशिश की जा रही है।

इसे भी पढ़ें-: लोकतंत्र को गुमराह कर कॉरपोरेट व्यवस्था लाना चाहती है भाजपा: अखिलेश यादव

गौरतलब है कि शिवपाल यादव को उनके बड़े भाई मुलायम सिंह यादव ने पिछले साल ही भरोसा दिलाया था कि एसपी में उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी। पिछले साल जब एसपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई तो भी यह तय माना जा रहा था कि उन्हें पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव बना दिया जाएगा। हालांकि, उनके दूसरे बड़े भाई प्रफेसर रामगोपाल यादव को प्रधान महासचिव तो बना दिया गया, पर उन्हें कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई। इससे वह पहले निराश थे।


कमेंट करें