राजनीति

BMC में किसी को बहुमत नहीं, क्या फिर से होगा बीजेपी-शिवसेना में गठबंधन?

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
839
| फरवरी 23 , 2017 , 20:07 IST

देश की सबसे धनी म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन में शामिल बृहन्मुंबई नगर निगम यानी बीएमसी की कुर्सी पर कौन काबिज होगा इसमें पेच फंस गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि बीएमसी के चुनाव में किसी को बहुमत नहीं मिला है। बीएमसी की सभी 227 सीटों के नतीजे आ गए हैं। इनमें शिवसेना को 84 सीटें मिली हैं। वहीं बीजेपी दो कम 82 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर रही है। कांग्रेस के हाथ 31 सीटें लगी हैं। एनसीपी को 9, एमएनएस 7 और अन्य को 14 सीटें मिली हैं।

सवाल है कि चुनाव में अलग रहे बीजेपी और शिवसेना बीएमसी में सत्ता के लिए फिर से एक होंगे। सबसे बड़ी पार्टी बनने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने गुरुवार को कहा कि यह चुनाव शिवसेना बनाम पूरी सरकार था। उन्होंने दावा किया कि सिर्फ मुंबई का मेयर ही नहीं, बल्कि अगला मुख्यमंत्री भी शिवसेना से ही होगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने महाराष्ट्र बीजेपी को भारी जीत के लिए बधाई दी है। क्योंकि पिछली बार गठबंधन में रहते हुए बीजेपी ने 31 सीटें जीती थीं, वहीं इस बार अकेले 82 सीटें जीत ली। 

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी बीजेपी को बधाई दी है। 

 

Shiv sena 09

चुनाव में हार के बाद कांग्रेस पार्टी में घमासान मच गया है। हार के बाद मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने अपने पद से इस्तीफा देने की पेशकश की है। संजय का कहना है कि आपसी गुटबाजी की वजह से चुनाव  में कांग्रेस की हार हुई है।

बीजेपी महाराष्ट्र में सात महानगर पालिकाओं में नंबर वन पार्टी बन कर सामने आई है। पुणे, नागपुर समेत सात महानगर पालिकाओं में बीजेपी आगे रही। महाराष्ट्र की मंत्री पंकजा मुंडे ने बीड़ जिले में अपने निर्वाचन क्षेत्र में स्थानीय निकाय चुनाव में भाजपा के खराब प्रदर्शन पर इस्तीफे की पेशकश की है लेकिन उनका इस्तीफा ठुकरा दिया गया है। 

20 साल के बाद पहली बार महाराष्ट्र निकाय चुनाव में शिवसेना और बीजेपी ने अलग-अलग चुनाव लड़ा है। 


कमेंट करें