इंटरनेशनल

हांगकांग के इन घरों में नर्क है ज़िन्दगी

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
625
| सितंबर 23 , 2017 , 18:35 IST

हर किसी का सपना होता है कि खुद का एक घर हो, लेकिन इस सपने को बहुत कम लोग होते हैं, जो पूरा कर पाते हैं। कड़ी मेहनत करने के बावजूद बहुत से लोगों को अपने सिर पर छत नसीब नहीं होती। कुछ लोग तो ऐसे भी हैं, जिन्हें छत तो नसीब होती है मगर उस छत का दयारा इतना छोटा होता है की उसमे एक जानवार भी ठीक से समा न सके।

413CFB2F00000578-4585230-image-a-252_1496936945231

ऐसा ही कुछ हाल चकाचौंध कर देने वाले शहर हांगकांग का है। इस शहर के तकरीबन 200,000 लोग अमानवीय तरह से गुज़र बसर करने पर मजबूर हैं। ज़रा सोचिये, आप जिस जगह पॉटी करते हैं, उसी पॉटी सीट के पास ही खाना खाना पड़े। सोचकर ही घिन आ गई होगी। पर कुछ लोग ऐसे ही गुज़ारा करने पर मजबूर हैं।

4134887C00000578-0-image-a-175_1496936198190

तस्वीरों से इनकी बेबसी साफ़ झलकती है। हांगकांग के जनगणना विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार, कहने को तो लाखों लोगों को 88,000 छोटे-छोटे अपार्टमेंट्स में रहने के जगह दी गई है। मगर इन अपार्टमेंट्स का साइज़ किसी जानवर के बाड़े से भी छोटा है।

413CFA6800000578-4585230-image-a-240_1496936881649

जी यहां पर छोटे छोटे कॉफिन क्यूबिकल्स बने हुए है जो लोगो का घर माने जाते है इन्हे कफन जैसे घर की संज्ञा भी दी जाती है।

413CFB3300000578-4585230-image-a-253_1496936968036

यहां पर एक ही कमरा होता है जिसमे लोग खाते है, नहाते है, सोते है, सब कुछ बस एक ही कमरे में। यहां पर एक ही कमरे में किचन, बाथरूम, सब कुछ होता है और व्यक्ति को उसी में गुजारा करना होता है। इन घरों को यहां पर कॉफिन क्यूबिकल्स पिंजरा घर के नाम से पुकारा जाता है।यहाँ पर व्य क्ति कोई सामन खरीदकर भी नहीं रख सकता क्योंकि उतनी जगह ही नहीं होती है दो आदमी के खड़े होने पर ही यह इतना भरा लगता है जैसे दस से बीस आदमी खड़े हो।

देखें तस्वीरें-

 4134887100000578-4585230-image-m-221_1496936761190
4134886400000578-4585230-image-m-185_1496936452702
4134885B00000578-4585230-image-m-257_1496937659445
413488C300000578-4585230-image-a-204_1496936620188
413CFB2200000578-4585230-image-m-192_1496936511860

413CFB3E00000578-4585230-image-a-193_1496936522693
413CFB3A00000578-4585230-image-a-187_1496936475546

413CFB2A00000578-4585230-image-a-250_1496936933601
413CFA7200000578-4585230-image-a-246_1496936906151
413CFB1E00000578-4585230-image-a-201_1496936590147

413CFA5800000578-4585230-image-a-241_1496936889803
413CFA7B00000578-4585230-image-a-238_1496936875202
4134888700000578-4585230-image-a-207_1496936632082
413CFA5E00000578-4585230-image-a-258_1496937678324

(साभार- बेन्नी लैम फोटोज़)


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें