राजनीति

स्मृति का राहुल गांधी पर पलटवार, कहा- लगे रहो भाई, गुजरात फिर भी हारोगे

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
866
| अक्टूबर 21 , 2017 , 11:33 IST

केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता स्मृति ईरानी ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर पलटवार किया है। ईरानी ने शुक्रवार की शाम राहुल गांधी पर तंज कसते हुए ट्वीट कर कहा कि 'एक आदमी जो बेल पर है, कोर्ट का मजाक उड़ा है. लगे रहो भाई गुजरात फिर भी हारोगे। साल मुबारक।

स्मृति ईरानी का यह ट्वीट कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के उस ट्वीट के जवाब में आया है, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जयशाह के मामले में 'चुप्पी' के लिए तंज कसा था।

राहुल गुजरात चुनाव को ले बीजेपी पर लगातार अटैकिंग मोड में

राहुल ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी के टर्नओवर में अचानक हुए कथित इजाफे के मुद्दे पर 'चुप्पी' के लिए तंज कसते हुए कहा कि वह न तो इस मुद्दे पर कुछ बोलते हैं और न ही किसी को बोलने देते हैं।

राहुल ने ट्वीट कर कहा, "मित्रों, शाह-जादे के बारे में न बोलूंगा, न किसी को बोलने दूंगा। राहुल ने इशारों इशारों में मोदी की प्रसिद्ध पंक्ति 'न खाऊंगा न खाने दूंगा' पर चुटकी लेते हुए यह बात कही।

राहुल ने पहले भी ट्वीट कर निशाना साधा

राहुल इन दिनों मोदी और उनकी सरकार पर निशाना साधने के लिए सोशल मीडिया का जमकर इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने हाल में पॉपुलर सॉन्ग 'कोलावेरी डी' की तर्ज पर ट्वीट किया था, 'शाह-जादा को सरकारी कानूनी मदद! वाइ दिस, वाइ दिस कोलावेरी डी?'

एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा - "शाह-जादा को सत्ता का कानूनी सहारा! झंडा ऊंचा रहे हमारा!

राहुल एक महीने में दो बार गुजरात गए

गुजरात में नवंबर और दिसंबर में असेंबली चुनाव हो सकते हैं। इसे देखते हुए राहुल पिछले एक महीने में दो बार गुजरात का दौरा कर चुके हैं। पहला दौरा उन्होंने 26 से 28 सितंबर तक और उसके बाद दूसरा दौरा 11 अक्टूबर को किया था।

गुजरात में विकास कैसे पागल हुआ? ये झूठ सुन-सुनकर पागल हो गया: राहुल

राहुल कुछ दिनों से गुजरात के विकास मॉडल को निशाना बना रहे हैं। वे गुजरात में जहां जाते हैं, वहां लोगों से इसी बारे में पूछते हैं। पिछले दोनों एक सभा में उन्होंने लोगों से पूछा था- "नरेंद्र मोदी का गुजरात मॉडल क्या है- पैसा है तो नौकरी मिलेगी, पैसा है तो जमीन मिलेगी, पैसा हो तो स्वास्थ्य मिलेगा। पैसा नहीं है तो जाओ भाड़ में। मोदी का गुजरात मॉडल फेल है। हम छोटे से छोटा काम आपसे पूछकर करेंगे। गुजरात के लोगों को मालूम है कि गुजरात मॉडल क्या है। सालों पहले एक और गुजरात मॉडल हुआ था, जिसने श्वेत क्रांति दी। किसानों को मजबूती दी। हम फिर से वही मॉडल लागू करेंगे। गुजरात में विकास का क्या हुआ? विकास कैसे पागल हुआ? दरअसल, विकास झूठ सुन-सुनकर पागल हो गया।"


कमेंट करें