राजनीति

BJP को रोकने के लिए साथ आए SP-BSP, यूपी में 38-38 सीटों पर लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1551
| जनवरी 12 , 2019 , 13:28 IST

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने शनिवार को औपचारिक रूप से ऐलान करते हुए कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। मायावती ने संवाददाता सम्मेलन में गठबंधन का ऐलान किया। मायावती ने कहा कि राज्य की 80 लोकसभा सीटों में से सपा और बसपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी। अमेठी और रायबरेली में हम गठबंधन का उम्मीदवार नहीं उतारेंगे। बाकी दो सीटों पर अन्य पार्टियों को मौका देंगे।

उन्होंने गठबंधन को एक नई राजनीतिक क्रांति करार दिया और कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की नींद उड़ा देगा।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मायावती ने कहा कि गठबंधन के पास भाजपा को फिर से सत्ता में आने से रोकने की क्षमता है।

मायावती ने कहा कि कांग्रेस को इस गठबंधन में शामिल क्यों नहीं किया है? राफेल घोटाले के कारण भाजपा को 2019 के चुनाव में सरकार गंवानी पड़ेगी। कांग्रेस पार्टी के राज में कभी घोषित इमरजेंसी थी। अब भाजपा के राज में अघोषित इमरजेंसी है। ये लोग अपनी सरकारी मशीनरी का जबर्दस्त उपयोग कर रहे हैं। 1977 में कांग्रेस की तरह ही भाजपा को इस बार भारी नुकसान होने वाला है। बसपा-सपा को कांग्रेस से चुनावी गठबंधन करके कोई खास फायदा नहीं मिलेगा।

कांग्रेस के गठबंधन में शामिल नहीं होने पर मायावती ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा, दोनों की सरकारों में रक्षा सौदों में घोटाले हुए हैं। कांग्रेस से गठबंधन करके हमें फायदा नहीं मिलता, बल्कि कांग्रेस को हमारे वोट ट्रांसफर हो जाते हैं।

बसपा और सपा के गठबंधन से समाज और देश को उम्मीदें हैं। चुनाव जीतने के लिए पार्टियों का एकजुट होना काफी है। यह दलितों-शोषितों-पिछड़ों और मुस्लिम व अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों की रक्षा और उनका प्रतिनिधित्व वाली शक्ति है। यह आर्थिक क्रांति का आंदोलन भी बन सकता है।


कमेंट करें