राजनीति

अमित मालवीय:आगरा का लड़का जिसने 'फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी' बनाया था,बन गया BJP IT सेल का हेड

अमितेष युवराज सिंह | न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
3995
| मार्च 27 , 2018 , 20:30 IST

बीजेपी आईटी सेल के हेड अमित मालवीय अपने कामों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहते हैं। मंगलवार को भी वो दिनभर खबरों में छाए रहे। दरअसल, अमित मालवीय ने एक ऐसा ट्वीट कर दिया जिसके बाद हंगामा मच गया। अमित मालवीय ने चुनाव आयोग द्वारा कर्नाटक के लिए तारीखों का एलान करने से पहले ही तारीख का एलान ट्विटर पर कर दिया। मतलब चुनाव आयोग ने भी घोषणा की कि कर्नाटक में चुनाव 12 मई को होंगे लेकिन उससे पहले ही अमित मानवीय ने भी घोषणा दी।

इस घटना को लेकर निर्वाचन आयोग को शर्मिदगी झेलनी पड़ी है। चुनाव की तिथि 'लीक' होने के सवाल पर मुख्य चुनाव आयुक्त ओ.पी. रावत ने पहले तो मालवीय द्वारा घोषित चुनाव तिथि को अनुमान कहकर खारिज कर दिया, लेकिन बाद में उन्होंने कहा कि आयोग इस मामले की जांच करेगा और उचित कार्रवाई करेगा।

Amit-Malviya-tweet

आखिर ये अमित मालवीय कौन हैं? आपको बता दें कि अमित की वजह से बीजेपी को कई बार फजीहत झेलनी पड़ी है। कई मौकों पर मालवीय ने गलत ट्वीट कर पार्टी के लिए शर्मिंदगी पैदा की है।

कौन हैं अमित मालवीय

अमित मालवीय यूपी के आगरा के रहने वाले हैं। उन्होंने आगरा के दयालबाग एजुकेशन इंस्टीट्यूट से बैचलर इन बिजनेस मैनेजमेंट किया है। अपने सफर को आगे बढ़ाते हुए साल 2000 में अमित ने पुणे के सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट से एनबीए किया। इसके बाद मालवीय ने आईसीआईसीआई बैंक में बतौर असिस्टेंट मैनेजर की नौकरी शुरू की। उन्होंने मुंबई में इस पद पर एक साल 4 महीने गुजारे। इसके बाद अक्टूबर 2001 में कैलोन में बिजनेस एनालिस्ट के तौर पर ज्वाइन किया। साल 2003 में एचएसबीसी बैंक में सीनियर वाइस प्रेसीडेंट की नौकरी पकड़ ली। वहां सात साल तक रहे। साल 2010 के जुलाई में मालवीय बैंक ऑफ अमेरिका में वाइस प्रेसिडेन्ट बनाए गए। यहां उन्होंने करीब दो साल तक नौकरी की।

61680160

फ्रेंडस ऑफ बीजेपी

साल 2009 में अमित मालवीय ने लोगों को बीजेपी से जोड़ने के लिए 'फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी' नाम से एक फोरम बनाया था। अमित ने लोगों से कहा था कि www.friendsofbjp.org पर लॉगइन कर आप उसे ग्रुप को ज्वाइन कर सकते हैं।

बताया जाता है कि मुंबई में नौकरी करने के दौरान अमित की मुलाकात बीजेपी के नेता पीयूष गोयल से हुई थी। पीयूष गोयल अमित की तकनीकी समझ से काफी प्रभावित हुए। अपनी तकनीकी ज्ञान और कार्यशैली की वजह स अमित मालवीय को बाद में बीजेपी आईटी सेल का हेड बना दिया गया और अभी भी वह इसपर काबिज हैं।

8032_18-vza-30

पहले भी कर चुके हैं विवादास्पद ट्वीट

अमित मालवीय कई बार अपनी ट्विटरबाजी की वजह से विवादों में फंस चुके हैं। पिछले साल पंजाब चुनावों से पहले एक ट्वीट कर राहुल गांधी को घेरने की कोशिश की थी लेकिन उनके दांव उल्टे पड़ गए थे। उस वक्त अमित मालवीय ने डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम से राहुल गांधी के रिश्तों को उजागर किया था और एक तस्वीर सोशल मीडिया पर साझा की थी लेकिन उनका दांव उल्टा पड़ा गया क्योंकि यह तस्वीर डेरा सच्चा सौदा नहीं बल्कि दूसरे डेरा प्रमुख के साथ राहुल गांधी की थी।

इसके अलावा पिछले साल उन्होंने पत्रकार रवीश कुमार का एक भाषण ट्विटर पर शेयर किया था। रवीश के 10 मिनट के भाषण में से सिर्फ 11 सेकेंड का स्पीच निकालकर उन्होंने रवीश पर तंज कसा था कि पत्रकार की कौन सी पार्टी होती है? इस पर भी काफी विवाद हुआ था।


कमेंट करें