नेशनल

श्री श्री की शरण में CBI, अधिकारियों के बीच ताल-मेल के लिए 3 दिवसीय प्रवचन

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1484
| नवंबर 9 , 2018 , 18:57 IST

सीबीआई में श्रीश्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग की ओर से एक कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार, ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि जांच एजेंसी में सकारात्मकता और ताल-मेल का संचार हो। जांच एजेंसी के तकरीबन 150 अधिकारी और कर्मचारियों के इस कार्यशाला में शामिल होने का अनुमान है।

सीबीआई ने जारी की प्रेस रिलीज

शुक्रवार को सीबीआई द्वारा जारी प्रेस रिलीज़ के अनुसार, आर्ट ऑफ लिविंग की कार्यशाला 10, 11 और 12 नवंबर को सीबीआई के नई दिल्ली स्थिति मुख्यालय में आयोजित की जाएगी। जांच एजेंसी की ओर से जारी प्रेस रिलीज़ के अनुसार, वर्कशॉप आयोजित करने का उद्देश्य सीबीआई में सकारात्मकता बढ़ाने के साथ ही विभाग में ताल-मेल बढ़ाना और स्वस्थ वातावरण का निर्माण करना है।

CBI निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच मचा घमासान

तीन दिवसीय कार्यक्रम में इंस्पेक्टर रैंक से लेकर सीबीआई के निदेशक पद तक के अधिकारी शामिल होंगे। मालूम हो कि सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच मचे घमासान के बाद केंद्र की मोदी सरकार ने वर्मा और अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया है। सीबीआई के 55 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है। केंद्र ने भ्रष्टाचार रोधी संस्था सीवीसी से मिली एक सिफ़ारिश के बाद यह फैसला लिया।

केंद्र की मोदी सरकार द्वारा दोनों अधिकारियों को छुट्टी पर भेज दिया गया और एम. नागेश्वर राव को अंतरिम निदेशक नियुक्त किया गया है। हालांकि सीबीआई की ओर से यह भी स्पष्ट किया गया है कि दोनों शीर्ष अधिकारी आलोक वर्मा निदेशक के पद पर और राकेश अस्थाना विशेष निदेशक के पद पर बने रहेंगे। बीते 24 अक्टूबर को दोनों अधिकारियों को छुट्टी पर भेजे जाने के बाद अस्थाना के खिलाफ जांच कर रहे 13 सीबीआई अफसरों का भी तबादला कर दिया गया था।

मालूम हो कि हवाला और मनी लॉन्ड्रिंग के मामलों में मीट कारोबारी मोईन क़ुरैशी को क्लीनचिट देने में कथित तौर पर घूस लेने के आरोप में सीबीआई ने बीते दिनों अपने ही विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज कराई है और सीबीआई ने अपने ही दफ़्तर में छापा मारकर अपने ही डीएसपी देवेंद्र कुमार को गिरफ्तार किया है।

डीएसपी देवेंद्र कुमार को सात दिन की हिरासत में भेज दिया गया हैं। देवेंद्र ने अपनी गिरफ़्तारी को हाईकोर्ट में चुनौती दी है. अस्थाना पर आरोप है कि उन्होंने मीट कारोबारी मोईन कुरैशी भ्रष्टाचार मामले में हैदराबाद के एक व्यापारी से दो बिचौलियों के ज़रिये पांच करोड़ रुपये की रिश्वत मांगी। सीबीआई का आरोप है कि लगभग तीन करोड़ रुपये पहले ही बिचौलिये के ज़रिये अस्थाना को दिए जा चुके हैं।


कमेंट करें