नेशनल

नौकरी नहीं है तो आरक्षण का क्या फायदा: नितिन गडकरी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2163
| अगस्त 5 , 2018 , 15:51 IST

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने आरक्षण को लेकर बड़ा बयान दिया है। नितिन गडकरी ने ने कहा कि आरक्षण रोजगार देने की गारंटी नहीं है क्योंकि नौकरियां कम हो रही हैं। गडकरी ने कहा कि एक सोच है जो चाहती है कि नीति निर्माता हर समुदाय के गरीबों पर विचार करें।

हालांकि नितिन गडकरी मे ट्वीट कर अपने बयाम पर सफाई दी है कि  केंद्र सरकार की जातिगत आधार पर आरक्षण मानदंडों को आर्थिक परिस्थितियों में बदलने की कोई सोच नहीं है।

महाराष्ट्र में जारी मराठा आरक्षण आंदोलन के बीच केंद्रीय परिवहन मंत्री ने कहा, 'जाति के आधार पर नहीं, बल्कि गरीबी के आधार पर आरक्षण देने की जरूरत है, क्योंकि गरीब की जाति, भाषा और क्षेत्र नहीं होती है। उन्होंने कहा कि अगर आरक्षण किसी समुदाय को मिल भी जाता है, तो नौकरियां कहां हैं, बैंकों में आईटी की वजह से नौकरियां नहीं हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘एक सोच कहती है कि गरीब गरीब होता है, उसकी कोई जाति, पंथ या भाषा नहीं होती। उसका कोई भी धर्म हो, मुस्लिम, हिन्दू या मराठा सभी समुदायों में एक धड़ा है जिसके पास पहनने के लिए कपड़े नहीं है, खाने के लिए भोजन नहीं है।

गडकरी का बयान ऐसे समय पर आया है जब महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण की मांग के लिए लोग आंदोलन कर रहे हैं।


कमेंट करें