नेशनल

राम मंदिर: अध्यादेश या फैसले का इंतजार! हिंदू संगठनों ने सरकार पर बढ़ाया दबाव

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1545
| अक्टूबर 29 , 2018 , 17:49 IST

सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या की सुनवाई जनवरी तक टलने के बाद हिंदू संगठनों ने मोदी सरकार पर राम मंदिर बनाने के लिए दवाब बढ़ाना शुरू कर दिया है। विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सोमवार को केंद्र सरकार से राम मंदिर के लिए अध्यादेश लाने की मांग की। यही नहीं बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना और शिया वक्फ बोर्ड ने भी यही मांग कर केंद्र सरकार पर दवाब बढ़ा दिया है।

बता दें सुप्रीम कोर्ट ने कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि मालिकाना हक विवाद मामले में दायर दीवानी अपीलों को अगले साल जनवरी के पहले हफ्ते तक टाल दिया है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली तीन सदस्यीय पीठ ने कहा कि उचित पीठ अगले साल जनवरी में सुनवाई की आगे की तारीख तय करेगी। पीठ के दो दूसरे सदस्यों में न्यायमूर्ति एस के कौल और न्यायमूर्ति के एम जोसफ शामिल थे।

शिवसेना नेता राउत बोले-राम मंदिर बने

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कहा कि कोर्ट अयोध्या मामले पर क्या फैसला देता है, हमारा ध्यान उस पर नहीं है। राउत ने कहा, 'कोर्ट को पूछकर हमने बाबरी का ढांचा नहीं गिराया था। कोर्ट से अनुमति लेकर कारसेवक मारे नहीं गए थे। हम चाहते हैं राम मंदिर बनाया जाए। हम कराची-पाकिस्तान में राम मंदिर की मांग नहीं कर रहे हैं। उद्धव ठाकरे अयोध्या में जाकर अपनी बात रखेंगे।

शिया वक्फ बोर्ड चीफ ने भी की अध्यादेश की वकालत

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने सोमवार को कहा कि वह पीएम नरेंद्र मोदी से मिलने का वक्त मांगेंगे। उन्होंने कहा, 'मैं पीएम से मिल यह आग्रह करना चाहता हूं कि राम मंदिर निर्माण के लिए वह अध्यादेश का रास्ता अख्तियार करें।' रिजवी ने भरोसा जताया कि अयोध्या विवाद मामले में जब भी फैसला आएगा बाबरी मस्जिद के पक्षकारों को हार का मुंह देखना पड़ेगा।

वीएसपी ने मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने की वकालत की है। वीएसपी के प्रवक्ता ने कहा कि संसद के शीतकालीन सत्र में मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाया जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर वीएचपी प्रवक्ता ने कहा कि इससे फैसले में देरी होगी। वीएचपी ने कहा कि कि वह अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए अपने आंदोलन को और तेज करेगा।

महंत परमहंस दास ने दी आत्मदाह की धमकी

महंत परमहंस दास ने सरकार से राम मंदिर एक महीने के भीतर कानून बनाने की मांग की है। परमहंस ने कहा, 'पिछली बार जब मैंने अनशन किया था, तब मुझे जबरन उठाकर अस्पताल में भर्ती करा दिया गया था। मैं सरकार से राम मंदिर पर तुंरत कानून बनाने की मांग करता हूं। अगर सरकार ऐसा नहीं करेगी तो मैं फिर से अनशन पर बैठूंगा। आत्मदाह भी कर लूंगा।'


कमेंट करें