नेशनल

केरल लव जिहाद: हादिया-शफीन को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- शादी मान्य है

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1179
| मार्च 8 , 2018 , 15:57 IST

लव-जिहाद के कथित मामले में हादिया को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। कोर्ट ने हादिया का विवाह अमान्य करार देने के केरल हाईकोर्ट के फैसले को रद्द कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने हादिया और शफीन जहां की शादी को फिर से बहाल कर दिया है। अब हादिया और शफीन फिर से पति-पत्नी की तरह रह सकेंगे।

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनंजय वाई चन्द्रचूड़ की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने हादिया के पति होने का दावा करने वाले शफीन जहां की याचिका पर ये फैसला सुनाया।

गौरतलब है कि केरल हाईकोर्ट ने हादिया और शफीन के विवाह को लव जिहाद का उदाहरण बताते हुये हादिया की शादी को अमान्य करार दिया था। इसके बाद उसका पति होने का दावा कर रहे शफीन जहां ने शीर्ष अदालत में याचिका दायर की थी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले, इस महिला के पिता ने शीर्ष अदालत में दावा किया था कि उनके प्रयासों से ही उनकी बेटी को चरमपंथियों के नियंत्रण वाले सीरिया के इलाके में भेजने से रोका जा सका है। उनका दावा है कि उसकी बेटी को वहां यौन गुलाम या मानव बम के रूप में इस्तेमाल किया जाना था।     

हादिया के पिता के एम अशोकन ने नये हलफनामे में दावा किया कि उनकी पुत्री कमजोर और वयस्क है और उसने सहजता से ही खुद को अंजानों के समक्ष समर्पित कर दिया जिन्होंने उसे अपने साथ करके रहने की जगह दी और संरक्षण प्रदान किया।  

Dc-Cover-bsnudco08r3igtj44duecnr7m4-20171126003003.Medi   

हादिया पहले ही शीर्ष अदालत में कह चुकी है कि उसने अपनी मर्जी से इस्लाम धर्म कबूल करके शफीन से शादी की है और वह अपने पति के साथ ही रहना चाहती है।    शीर्ष अदालत ने 22 फरवरी को सवाल किया था कि क्या उच्च न्यायालय दो वयस्कों द्वारा स्वेच्छा से की गई शादी को अमान्य घोषित कर सकता है।

शीर्ष अदालत ने इससे पहले,  पिछले साल 27  नवंबर को हादिया को उसके माता-पिता की देख रेख से मुक्त करते हुये उसे सलेम के एक कॉलेज में अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिये भेज दिया था।


कमेंट करें