नेशनल

CBIvsCBI: SC का आदेश, CVC की जांच रिपोर्ट आलोक वर्मा को सौंपी जाए

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1430
| नवंबर 16 , 2018 , 14:16 IST

सीबीआई विवाद में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में अहम सुनवाई हुई। छुट्टी पर भेजे गए सीबीआई के डायरेक्टर आलोक वर्मा के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों पर सीवीसी की रिपोर्ट पर सुनवाई की। आलोक वर्मा ने केंद्र सरकार की ओर से छुट्टी पर भेजे जाने के फैसले को अदालत में चुनौती दी थी। केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC) के बाद जस्टिस पटनायक ने भी अपनी रिपोर्ट सौंप दी। मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि सीवीसी ने दस्तावेज के साथ पूर्ण रिपोर्ट सौंपी है।

मुख्य न्यायाधीश ने कहा है कि सीवीसी की रिपोर्ट में मिलीजुली बातों हैं। कुछ और आरोपों के जांच की जरुरत है। इसी के साथ कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 20 नवंबर की तारीख तय कर दी है।

सुनवाई के दौरान मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि अगर केंद्र सरकार को कोई दिक्कत नहीं होगी तो हम आलोक वर्मा के वकील को रिपोर्ट की सीलबंद कॉपी देंगे। आपको सीलबंद लिफाफे में जवाब देना होगा। हालांकि कोर्ट ने अस्थाना को रिपोर्ट की कॉपी नहीं देने का आदेश दिया।

नागेश्वर राव के फैसलों में कुछ गलत नहीं

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण के एनजीओ 'कॉमन कॉज' को फटकार लगाते हुए कहा कि उन्होंने सीबीआई के अंतरिम डायरेक्टर नागेश्वर राव के फैसलों पर सवाल जरूर उठाए हैं, लेकिन यह नहीं बता रहे कि उनके फैसले गलत कैसे हैं। कोर्ट ने रहा कि इन फैसलों में कुछ भी गलत नहीं है।

छुट्टी पर भेजे जाने के खिलाफ गए कोर्ट

बता दें कि सीबीआई में घूसकांड विवाद में सीबीआई प्रमुख आलोक वर्मा और जांच एजेंसी में नंबर दो राकेश अस्थाना को 23 अक्टूबर को छुट्टी पर भेज दिया गया था। दोनों ने ही इस फैसले के खिलाफ कोर्ट में अर्जी दायर की है। सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने केंद्रीय सतर्कता आयुक्त केवी चौधरी की अगुवाई में बनी समिति के समक्ष एक-दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए और खुद का बचाव किया था।

नागेश्वर राव बने अंतरिम डायरेक्टर

आपको बता दें कि सरकार ने सीबीआई विवाद के बीच दोनों अधिकारियों की छुट्टी के बाद नागेश्वर राव को अंतरिम डायरेक्टर बनाया है।


कमेंट करें