नेशनल

साल का दूसरा सूर्य ग्रहण आज, भूलकर भी ना करें ये काम

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1917
| जुलाई 13 , 2018 , 11:19 IST

इस साल का दूसरा सूर्य ग्रहण 13 जुलाई यानी आज लगा। भारत में ग्रहण काल समाप्त हो चुका है। हालांकि सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखाई दिया। ग्रहण न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा। भारत के समयअनुसार यह ग्रहण सुबह  07:18 बजे शुरू हुआ और 8 बजकर 13 मिनट तक रहा। ज्योतिष के अनुसार इसका मोक्ष काल 09:43 बजे तक यानी 2 घंटे 44 मिनट तक रहा। अब साल का तीसरा सूर्य ग्रहण 11 अगस्त को लगेगा जो पूर्वी यूरोप, एशिया, नोर्थ अमेरिका और आर्कटिक में दिखाई दिया। 

यह साल का दूसरा सूर्य ग्रहण है। इसके अलावा पहला सूर्य ग्रहण 15 फरवरी को पड़ा था, जो भारत में नहीं दिखाई दिया था। यह सूर्य ग्रहण सिर्फ साउथ अमेरिका, अटलांटिक में ही दिखाई दिया था। 

16-1500206093-11

अशुभ माना जाता है ग्रहण

ज्योतिष शास्त्र की मानें तो किसी भी ग्रहण के लगने को अशुभ माना जाता है। कहा जाता है कि ग्रहण के दौरान खुले आसमान के नीचे नहीं रहना चाहिए। सूर्य ग्रहण के दौरान पृथ्वी अपनी धुरी पर लगातार घूमते रहने के साथ-साथ सौरमंडल में सूर्य का चक्कर भी लगाती है।

नग्न आंखों से ना देखें सूर्य ग्रहण

सूर्य ग्रहण को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए। विज्ञान के अनुसार इस दौरान खतरनाक रेडिएशन निकलते हैं जो आंखों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए सर्टिफाइट चश्में की सहायता से ही इसे देखना चाहिए। इस महीने मंगल हमारी पृथ्वी के इतने निकट आ जाएगा कि उसे नग्न आंखों से देखा जा सकेगा ।

Solar-eclipse-viewing

12 घंटे पहले ग्रहणकाल का सूतक

ग्रहणकाल का सूतक लगभग 12 घंटे पहले लग जाता है। ऐसे में लोग ग्रहण के दुषप्रभाव से बचने के लिए कई तरीकों को आज़माते हैं। जैसे सूर्य ग्रहण लगने से पहले दूध-दही जैसी चीजों में तुलसी के पत्ते डाल देना, ग्रहण से पहले ही सारा खाना खाकर खत्म करना, सोना नहीं, सब्जियों या फलों को ना काटना और घर में बंद रहना।

क्या होता है सूर्यग्रहण?

पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमने के साथ-साथ अपने सौरमंडल के सूर्य के चारों ओर भी चक्कर लगाती है. दूसरी ओर, चंद्रमा दरअसल पृथ्वी का उपग्रह है और उसके चक्कर लगता है, इसलिए, जब भी चंद्रमा चक्कर काटते-काटते सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है, तब पृथ्वी पर सूर्य आंशिक या पूर्ण रूप से दिखना बंद हो जाता है. इसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है।


कमेंट करें