इंटरनेशनल

OIC में बोलीं सुषमा स्वराज, आतंकी संगठनों की फंडिंग रुकनी चाहिए

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2002
| मार्च 1 , 2019 , 14:09 IST

अबू धाबी में शुक्रवार को इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) की बैठक हुई। इसमें 56 देशों के विदेश मंत्री शामिल हुए। भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वाराज को बतौर गेस्ट ऑफ ऑनर आमंत्रित किया गया। सुषमा ने कहा कि हमारी लड़ाई आतंकवाद के खिलाफ है, किसी धर्म के खिलाफ नहीं। इससे पूरी दुनिया संकट में है।

मानवता के मूल्यों के साथ हम साथ मिलकर काम करते हैं

सुषमा में अपने भाषण में आतंकवाद का जिक्र का करते हुए कहा कि अरब देशों के साथ भारत के रिश्तें अच्छे हैं। मानवता के मूल्यों के साथ हम साथ मिलकर काम करते हैं। भारत की इकॉनमी बढ़ रही है। उससे देशों के साथ संबंध गहरा हो रहा है। डिजिटल पार्टनरशिप भविष्य को तय कर रही है।

आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी मजहब के खिलाफ जंग नहीं है

आतंकवाद का जिक्र करते हुए सुषमा स्वराज ने आगे कहा कि भारत आतंकवाद से जूझ रहा है। आतंकवाद का दंश बढ़ रहा है। साउथ ईस्ट एशिया में आतंकवाद और अतिवाद एक नए स्तर पर है। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी मजहब के खिलाफ जंग नहीं है। अल्लाह का मतलब शांति है।

आतंकी संगठनों की फंडिंग रुकनी चाहिए

आतंकवाद को संरक्षण और पनाह देवे वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। आतंकी संगठनों की फंडिंग रुकनी चाहिए। इस्लाम शांति सिखाता है। संस्कृतियों का संस्कृतियों से समागम होना चाहिए। भारत खरीद क्षमता के आधार पर तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।

भारत में हर धर्म, संस्कृति का सम्मान

भारत के पूर्वी ब्रूनेई, इंडोनेशिया, मलेशिया भारत की ऐक्ट ईस्ट पॉलिटी के महत्वपूर्ण स्तंभ हैं। उन्होंने आगे कहा कि पड़ोसी देशों बांग्लादेश, अफगानिस्तान, मालदीव का भारत के साथ घनिष्ठ संबंध हैं। भारत में हर धर्म, संस्कृति का सम्मान, यही वजह है कि भारत के बहुत कम मुस्लिम जहरीले दुष्प्रचार से प्रभावित हुए। यहां जुटे लोगों से भी भाषा और संस्कृति की विविधता झलकती है।

OIC गोल्डन जुबिली तो भारत महात्मा गंधी की 150वीं जयंती मना रहा है

इस साल OIC गोल्डन जुबिली सेलिब्रेट कर रहा है तो भारत महात्मा गंधी की 150वीं जयंती मना रहा है। सऊदी, यूएई और बांग्लादेश को धन्यवाद। ये एक साझा आस्थाओं वाला संगठन है। भारत OIC की विश्व दृष्टि का समर्थन करता है। हम सुरक्षा पर साझा विचार रखते हैं। हमारी अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है। हमारे पड़ोसियों अफगानिस्तान, मालदीव और नेपाल से शानदार रिश्ते हैं। ईरान का काम भी बहतरीन।


कमेंट करें