नेशनल

3 घंटे में करना होगा ताज का दीदार, पुरातत्व सर्वेक्षण करेगा समय सीमा तय़

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
565
| जनवरी 3 , 2018 , 09:40 IST

ताजमहल के संरक्षण के लिए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) कुछ नये कदम उठा सकता है जिनमें वहां ताजमहल देखने वाले पर्यटकों की संख्या हर दिन 40,000 सीमित करना और हर पर्यटक के लिए 17वीं सदी के मुगल स्मारक के परिसर में अधिकतम 3 घंटे घूमने की समयसीमा तय करना शामिल है। संस्कृति मंत्रालय के एक सूत्र ने एजेंसी को यह जानकारी दी है।

संस्कृति सचिव रविंद्र सिंह ने मंगलवार को एएसआई के अधिकारियों, आगरा जिला प्रशासन के प्रतिनिधियों और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के अधिकारियों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की जिसमें यह फैसला किया गया. मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि टिकटों की ब्रिकी - ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों 40,000 की संख्या पर रोक दी जाएगी।

ताजमहल के दीदार के लिए इस समय संख्या को लेकर किसी तरह की रोकटोक नहीं है. पर्यटन के मुख्य मौसम में और दूसरे मौकों पर कई बार पर्यटकों की संख्या हर दिन 60,000 से 70,000 तक हो जाती है।

.jpeg

अधिकारियों ने बताया कि पर्यटकों की संख्या सीमित करने का फैसला नेशनल इन्वायरनमेंटल इंजीनियरिंग एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट (नीरी) की रिपोर्ट में दी गयी अंतिम सिफारिश पर आधारित है।

बीते माह सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को हलफ़नामा सौंपकर बताया कि ताजमहल के संरक्षण और आगरा के विकास के लिए कई योजनाएं सरकार ने तैयार की हैं। इनमें आगरा में डीजल जनरेटर पर पाबन्दी, CNG वाहनों पर ज़ोर, प्रदूषण पर नियंत्रण और पॉलीथिन पर पाबन्दी जैसे कदम भी शामिल हैं।

आगरा महायोजना 2021 के तहत डबल रिंगरोड के साथ नेशनल हाइवेज को चौड़ा किया जा रहा है. इसके अलावा पौधे लगाने, प्रदूषणकारी उद्योगों की शिफ्टिंग सहित कई और योजनाए हैं, जिनसे ना केवल ताज को संरक्षित रखा जा सकेगा बल्कि पर्यटकों को भी सुविधा मिलेगी।


कमेंट करें