इंटरनेशनल

दुनिया का पहला देश जहां सरकार ने महिलाओं के लिए लागू किया ड्रेस कोड, बुर्के को किया बैन

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2688
| मार्च 24 , 2018 , 09:30 IST

दुनिया का पहला ऐसा देश जहां सरकार ने 7 साल से लेकर 70 साल तक की महिलाओं के लिए ड्रेस कोड तय किया। यह देश ताजिकिस्तान है। यहां सरकार ने 7 साल की बच्चियों से लेकर 70 साल तक की महिलाओं के लिए ड्रेस कोड तय कर दिया है। इसके साथ ही सरकार ने बुर्का और हिजाब पहनने पर भी रोक लगा दी है।

वेब पोर्टल बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक इसके लिए संस्कृति मंत्रालय ने बाकायदा एक किताब भी जारी की है, जिसमें बताया गया है कि महिलाओं को किस मौके पर किस तरह के कपड़े पहनने हैं। इसमें मॉडल्स के जरिए कपड़ों को दिखाया गया है। इसके अलावा 90% मुस्लिम आबादी वाले इस देश में बुर्का और पश्चिमी परिधान (वेस्टर्न ड्रेस) पहनने पर रोक लगाई गई। ‘बुक ऑफ रिकमेंडेशन्स’ नाम की बुक में मंत्रालय ने महिलाओं के लिए पारंपरिक तौर पर ताजिक वेशभूषा पहनने की सिफारिश की है।

हिलाओं को खुले-खुले पश्चिमी परिधान और इस्लामिक कपड़े- जैसे बुर्का और हिजाब पहनने पर भी रोक लगाई गई है। यहां तक कि सार्वजनिक जगहों पर फ्लिप- फ्लॉप चप्पल या स्लीपर पहनने पर भी रोक है।

किताब में बताया गया है कि काले कपड़े बिल्कुल नहीं पहनने हैं। इस्लामिक कपड़ों के खिलाफ अभियान के तहत सिर ढंकने के लिए कपड़े के इस्तेमाल पर भी रोक है। पश्चिमी कपड़े, स्कर्ट पर भी रोक है। पूर्व सोवियत रूस का हिस्सा रहे इस देश में 90% से ज्यादा आबादी मुस्लिम है। ऐसे में सरकार सेक्यूलर लेकिन पारंपरिक संस्कृति को बढ़ावा देना चाहती है।

पूर्व सोवियत रूस का हिस्सा रहे इस देश में 90% से ज्यादा आबादी मुस्लिम है। ऐसे में सरकार सेक्यूलर लेकिन पारंपरिक संस्कृति को बढ़ावा देना चाहती है।

कब क्या पहने?

- नेशनल या स्टेट हॉलीडे, वीकेंड पर ढीले और शरीर ढंकने वाले कपड़े पहनने होंगे।

- शादी या अन्य किसी समारोह में पारंपरिक ताजिक कपड़े पहनने को कहा गया है।

- काले कपड़े, बुर्का, हिजाब पहनने पर रोक।


कमेंट करें

us country me Barkat khatme ho jayegi es se Islam pe koi barbhao nahi parega. manane wala ischij ko Mane game.