नेशनल

सोती हुई सरकार को जगाने के लिए किसानों ने खाया मलमूत्र, इंसानी मांस खाने की चेतावनी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1217
| सितंबर 12 , 2017 , 11:58 IST

पिछले 2 महीने से जंतर मंतर पर प्रदर्शन कर रहे तमिलनाडु के किसानों ने सरकार का ध्यान खींचने के लिए एक अनोखा कदम उठाया हैं। तमिलनाडु के किसानों के नेता पी अय्याकनु सहित दस लोगों ने रविवार को खुद का मलमूत्र  खाया। पी. अय्याकान्नू ने बताया कि हमने सुबह के समय प्लास्टिक के बैगों में मलमूत्र इकट्ठा कर लिया और फिर उसे खाया। उन्होंने कहा कि खराब मौसम की वजह से हमारी फसलें बहुत बर्बाद हुई है। सरकार हमारी बर्बाद फसलों का मुआवजा और ऋण छूट देने से इंकार कर रही है।

जिसके चलते हमे ये सारे ठोस कदम उठाने पड़ रहे हैं। वही एक किसान ने यह तक कहा कि अगर सरकार ने सोमवार तक कोई कदम नहीं उठाया तो वो इंसानों का मांस तक खाने को तैयार हैं। पी अय्याकान्नू ने कहा कि हम दिल्ली में अपनी मांगों को पूरा कराने के लिए बिना कपड़ो के ही प्रधानमंत्री के कार्यालय तक मार्च करेंगे। आपको बता दे तमिलनाडु के किसान एक बार सांप और चूहों को खाते हुए प्रदर्शन कर चुके हैं। 

5

इससे पहले भी किसानों ने 40 दिन तक जंतर- मंतर पर विरोध प्रदर्शन किया था। जिसके बाद जाते समय उनके साथ आत्महत्या करने वाले किसानों के 17 खोपड़ी और 17 जोड़ी कंधे पर कंकाल था। वे इससे पहले सिर मुड़ाने, आधी मूंछे कटवाने, सड़क पर खाना परोसकर खाने, आत्महत्या करने वाले अन्य साथी किसानों की खोपड़ियों के साथ प्रदर्शन करने जैसे कदम उठा चुके हैं। 

1

क्यों कर रहे हैं प्रदर्शन-

तमिलनाडू में सूखे के कारण इन किसानों की फसले बर्बाद हो गयी हैं और इन पर काफी ज्यादा ऋण भी हैं। दिल्ली में जंतर मंतर पर प्रदर्शन कर ये सरकार से बर्बाद फसलों का मुआवजा और ऋण छूट की मांग कर रहे हैं। लेकिन अभी तक इन किसानों की मांग पर सरकार ने कोई विचार नहीं किया हैं। ये किसान सरकार से ऋण माफी, संशोधित सूखा संकुल, कावेरी प्रबंधन समिति और उनके उत्पादों के लिए उचित मूल्यों की मांग कर रहे हैं।


कमेंट करें