नेशनल

मुफ्त की साड़ी लेने के लिए महिलाओं में मची होड़, शुरू हो गई मार पीट (वीडियो )

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
814
| सितंबर 19 , 2017 , 16:00 IST

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के साड़ी बांटने की स्कीम की हवा निकलती हुई दिखाई दे रही है। तेलंगना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने नवरात्र की तरह नौ दिन तक चलने वाले बथुकम्मा त्योहार को लेकर एक करोड़ गरीब महिलाओं को साड़ी वितरण करने की योजना बनाई थी। लिहाजा, सरकार ने जैसे ही महिलाओं को साड़ी बांटना शुरू किया ना केवल हंगामा होना शुरू हुआ बल्कि घटिया किस्म की साड़ी की वजह से मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की भी किरकिरी हुई।

योजना के मुताबिक राज्य के कई शहरों में 18 सितंबर को साड़ी बांटे जाने का कार्यक्रम शुरू हुआ लेकिन लंबी-लंबी कतारों में खड़ी महिलाओं ने पहले तो एक-दूसरे को धक्का देना शुरू किया फिर मारपीट पर उतारू हो गईं। महिलाओं का आरोप है कि इन साड़ियों की क्वालिटी बहुत खराब है।

प्रदेश की महिलाओं और बुनकरों को लुभाने के लिए प्रदेश सरकार ने 18 से 22 सितंबर के बीच बाथूकम्मा उत्सव के मद्देनज़र 1 करोड़ साड़िया बांटने का निर्णय लिया। इसके लिए सरकार 222 करोड़ रुपये खर्च कर रही है। लेकिन पासा उल्टा पड़ गया जब लंबे समय तक कतारों में लगी महिलाओं ने गुस्से में एक-दुसरे के बाल खींचने शुरू कर दिेए। इतना ही नहीं महिलाओं ने साड़ियों की होली जलाई, कुछ ने उससे गाड़ियां साफ की और कुछ ने साड़ियों को डस्टबिन में फेंक दिया।

महिलाओं का कहना था कि उन्हें उम्मीद थी कि उन्हें अच्छी साड़ियां मिलेंगी लेकिन सरकार जो साड़ियां बांट रही है उनकी क्वालिटी बहुत खराब है। सरकार ने वादा किया था कि हमें हैण्डलूम की साड़ियां देगी लेकिन हमें 50 रुपये की साड़ी दी जा रही है। एक महिला बोलीं, "क्या मुख्यमंत्री की लड़की बाथूकम्मा उत्सव पर ऐसी साड़ी पहनेगी?"

तेलंगाना सरकार में मंत्री तलसानी श्रीनिवास यादव का कहना था कि साड़ियां गरीब महिलाओं को त्योहार पर गिफ्ट है, जिसे वो बतुक्कम पर पहनेंगी। कम समय होने के कारण सरकार ने जल्दबाजी में आधी साड़ियां गुजरात के सूरत से मंगवाई गईं तो आधी तेलंगाना के पावरलूम से खरीदी गईं।

 बता दें कि बतुक्कम में महिलाएं सिर पर फूल सजाकर एकसाथ नाचती हैं। यह उत्सव नवरात्र के नौ दिनों तक चलता है और दशहरा को समाप्त होता है।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें